ट्रैकिंग के दौरान जंगल में मंगल

हेलो दोस्तों आज मैं आपको अपनी जिंदगी का वह राज बताने जा रहा हूं जो मैंने आज तक किसी को नहीं बताया। मेराज वह है जब मैंने पहली बार भावना की चुदाई की थी। तो चलिए बिना किसी देरी के हम अपनी कहानी शुरू करते हैं।

मेरा नाम राजीव शुक्ला है और मैं देहरादून में रहता हूं। मैं देहरादून पब्लिक स्कूल में पढ़ता हूं और 12वीं का छात्र हूं। मेरी उम्र 19 साल है और तुझे अभी नई नई जवानी चढ़ी हुई है और सेक्स का भूत तो मेरे सिर पर हमेशा ही सवार रहता है।

मेरी क्लास में एक लड़की पढ़ती है जिसका नाम भावना है। वह मुझे बहुत सुंदर लगती है और वह बहुत ज्यादा टिक टॉक बनाती है। उसका व्हाट्सएप नंबर मेरे पास पहले से ही था इसलिए एक दिन मैंने नोट्स मांगने के बहाने उसे मैसेज कर दिया। मैंने उससे कहा कि मुझे नोट चाहिए क्या प्लीज तुम मुझे नोट्स भेज सकती हो।

उसने बिना किसी हिचक के मुझे नोट्स भेज दिए और मैंने उसे थैंक्यू बोला। उसने बोला इसमें थैंक यू की क्या बात है तुम्हें जब भी नोटस चाहिए हो तुम मेरे से मांग सकते हो। नोट्स तो मेरे पास पहले से ही थे यह तो बस उससे बातें शुरू करने का एक बहाना था।

फिर हम दोनों ने व्हाट्सएप पर बातें करना चालू कर दी। हालांकि हम स्कूल में एक दूसरे से तुम ज्यादा बातें नहीं करते थे। लेकिन पता नहीं व्हाट्सएप पर हम इतनी ज्यादा बातें कैसे कर लेते थे। मैं स्कूल से छुट्टी के बाद दोपहर के खाना खाने के बाद से लेकर रात तक उसे मैसेज करता और उसका रिप्लाई आता रहता।

एक दिन स्कूल में वह मुझे मिली और बोली हम ऑनलाइन कितनी बातें करते हैं लेकिन कभी भी आमने सामने बात नहीं करते। मैंने कहा हां वह तो है पता नहीं हमसे क्यों होता है। 1 दिन की बात है हमारे स्कूल का एक ट्रिप था जिसमें हमें ट्रेकिंग के लिए जाना था।

सभी बच्चे जाने के लिए तैयार नहीं हुए लेकिन फिर भी 20 बच्चों ने हामी भर दी और हमारा ट्रैकिंग का प्लान बन गया। हमें एक हफ्ते बाद अब ट्रेकिंग के लिए जाना था। अब मैं और भावना आपस में बहुत ज्यादा खुल चुके थे और अब हम सेक्स की बातें सरेआम किया करते थे।

एक दिन मैंने उसे कहा तुम प्लीज न्यूड भेजो ना। पहले तो उसने मना किया लेकिन मेरे जोर देने पर उसने अपने बूब्स की एक फोटो खींचकर भेजें। उसकी फोटो देखकर अचंभित हो गया और मेरा लन्ड एकदम से खड़ा हो गया। फिर मैंने उसे कहा कि अपनी चुत की फोटो भी भेजो लेकिन उसने कहा अरे नीचे बहुत ज्यादा बाल है किसी दिन शेव करूंगी तो फिर तुम्हें भेजूंगी।

फिर मैंने उससे कहा जो लोग उसकी एक दो फोटो और भेज दो अपने चेहरे के साथ। फिर वह बोली 2 मिनट रुको मैं बाथरूम में जाकर तुम्हें सेल्फी भेजती हूं। मैं बेसब्री से उसकी फोटो उसका इंतजार करने लगा।

फिर उसने 5 मिनट बाहर बाथरूम में जाकर एक ही मिरर सेल्फी भेजी जिसमें वह कमर तक बिल्कुल नंगी थी और उसके बूब्स नीचे की तरफ लटके हुए बहुत ही कमाल लग रहे थे। अब मेरा लंड पैंट फाड़ कर बाहर आने के लिए मचल रहा था। मैं बाथरूम में गया और भावना की फोटो को निहारते हुए मुठ मारी।

उस दिन लगभग मैंने उसकी फोटो देखकर तीन बार मुठ मार दी थी। फिर वह दिन आ ही गया जब हमें ट्रेकिंग के लिए जाना था। हम लोग बस में बैठे और बस जंगलों की तरफ चल दी। जब हम ट्रैकिंग वाले जगह पर पहुंच गए तो जो हमारे कोच थे उन्होंने कहा हम सभी दो दो के ग्रुप में होंगे और ट्रैकिंग पूरा करके इसी पॉइंट पर मिलेंगे।

मैंने और भावना ने अपना एक ग्रुप बना लिया और हम दोनों सभी लोगों से अलग होकर जंगल की तरफ चल दिए। जब हमने देखा कि हमारे आस पास कोई भी नहीं है और हम दोनों जंगल में अकेले हैं तो मैंने उससे कस के गले लगा लिया और उसके होठों पर होंठ रखकर उसके गुलाबी लाल होठों को चूसने लगा।

अब मैं उसके होठों का रस पी रहा था और वह भी मेरा साथ दे रही थी। अब हम दोनों टंग किस करने लगे। फिर मैंने उसकी शर्ट उतार दी और उसकी ब्रा को उतारते हुए उसके बूब्स को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा।

असल में उसके बूब्स तो और भी जायदा कमाल के थे और मैं उन्हें करीब 5 मिनट तक एक एक करके चूसता रहा। फिर मैं उसके होंठों की तरफ आया और उसे किस करने लगा और उसकी पैंटी में हाथ डालकर उसकी चुत में उंगली करने। अब वह सिसकियां भर रही थी और उसका शरीर में चल रहा था और इतनी ही देर में उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया।

अब मैं उसकी चुत की तरफ आया और मैंने देखा कि झांटों के बीच उसकी लाल रंग की चुत क्या कमाल लग रही थी। मैंने उसकी चूत पर एक किस किया और उसकी चुत को जीभ से चाटने लगा।

वह सी….आह…. मै मर गई कहते हुए मोन करने लगी। फिर उसने मुझे कहा अब बर्दाश्त नहीं होता अपना लंड मेरी चुत में डाल दो।

प्रियंका ने मुझसे पास के ही एक पेड़ पर सटाया और उसकी चुत के ऊपर अपना लन्ड रखते हुए एक जोर का झटका दिया। मेरा आधा लंड उसकी चुत में घुस गया और वह चिल्ला उठी।

लेकिन मैंने उसको थोड़ा सा हौसला दिया और फिर उसके होठों पर होंठ रखे और एक और जोर का झटका देकर पूरा लन्ड उसकी चुत में घुसा दिया।

वह अभी भी हल्का हल्का चिल्ला रही थी लेकिन मैं उसे धीरे-धीरे चलाते हुए अपना लन्ड अंदर बाहर करने लगा। फिर उसे थोड़ा जब आराम आया तो मैंने झटके देना तेज कर दिया।

अब वह उईइइ….. उफ्फफफ्फ….. अम्मह…. करके मोन कर रही थी और बड़ी ही अच्छी तरह से चुद रही थी। थोड़ी ही देर में वो झड़ गई और मुझे कस के गले लगा लिया।

मैं भी अब थोड़ी देर में झड़ने वाला था तो मैंने अपना लन्ड उसकी चुत से निकाला और उसे चूसने के लिए कहा।

पहले तो उसने मना किया लेकिन फिर मेरे जोर देने पर उसने मेरा लन्ड अपने मुंह में डालकर चूसना शुरू कर दिया।

अभी उसने एक मिनट ही मेरा लन्ड पूछा था कि मैंने एक जोर से पिचकारी मारते हुए अपने लन्ड का सारा माल उसके मुंह के अंदर ही निकाल दिया और वह सारा का सारा माल पी गई।

फिर उसने अपनी जीभ से मेरे लन्ड को चाटते हुए सारा माल साफ कर दिया।

मैंने उसे पानी की बोतल दी और उसने अपना मुंह हो गया साफ किया और थोड़ा सा कुल्ला करते हुए पानी पिया।

फिर हम दोनों ने अपने कपड़े सही किए और दोनों में एक किस्स की। फिर हम दोनों उस पॉइंट की तरफ चल दिए जहां सभी हमारा इंतजार कर रहे थे।