प्रमोशन के लिए बॉस से चुद गई

हेलो दोस्तों मेरा नाम अंजलि है और मैं 26 साल की हूं और एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करती हूं। मेरी हाइट 5 फुट 3 इंच है। मेरी हाइट थोड़ी छोटी है लेकिन मेरे बूब्स बहुत बड़े हैं और यह मेरी छोटी हाइट को बहुत ज्यादा सूट करते हैं और मुझे दिखने में काफी सेक्सी लुक देते हैं।

वैसे मेरा फिगर भी बहुत जबरदस्त है और मेरा एक बॉयफ्रेंड भी था जिससे मैंने पिछले महीने ही ब्रेकअप कर लिया। अब मैं सिंगल ही थी और अपने काम पर ध्यान दे रही थी। मेरा बॉस मेरी और काफी आकर्षित था और हमेशा मुझे चोदने की फिराक में ही रहता था। लेकिन मैं उसे कभी भी घास नहीं डालती थी और हमेशा कोई ना कोई बहाना बनाकर उसकी हर बात को टाल देती थी।

उसका मेरे पीछे पीछे कुत्तों की तरह घूमना मुझे बहुत ही अच्छा लगता था। हमें सोच रखा था कि अगर मुझे कोई अच्छा मौका मिला तो मैं उसकी प्यास भी बुझा दूंगी। क्योंकि मेरे बैच मैं चार लोग थे जिन्होंने एक साथ कंपनी ज्वाइन की थी और हम चारों को कंपनी ज्वाइन किए हुए 3 साल हो गए थे और अब हमारे प्रमोशन का टाइम था।

सब प्रमोशन के लिए बॉस की चमचागिरी करना शुरू कर दिए थे। अपना अपना काम तो करते ही थे लेकिन अगर वो उसका कोई पर्सनल काम होता था तो वह भी कर देते थे। एक दिन की बात है हमारी कंपनी के लेक्चर हॉल में एक मशहूर आदमी लेक्चर देने के लिए आने वाला था।

इसलिए हम सभी को वहां जाकर उनका लेक्चर सुनना था। मैं लेक्चर रूम में जाकर पीछे एक तरफ कौने वाली सीट पर बैठ गई। थोड़ी ही देर बाद बॉस लेक्चर में आया और वह मेरे साथ वाली सीट पर आकर बैठ गया। इस लाइन में केवल हम दोनों ही बैठे थे और फिर चार पांच सीट छोड़कर ही आगे कोई बैठा हुआ था।

इस तरह हम दोनों एक तरफ अकेले ही बैठे हुए थे। जब से शुरू हुआ तो उसने मुझसे कहा आज तुम बहुत ही सुंदर दिख रही हो। मैं समझ गया कि यह साला आज मुझे चोदने का मन बना कर ही आया है। फिर मैंने उससे थैंक्यू कहा और हल्का सा मुस्कुरा दी। फिर उसने कहा अंजलि प्रमोशन आने वाला है और मेरे पास एक तरीका है जिससे तुम आसानी से प्रमोशन पा सकती हो।

मैं वह तरीका पहले से ही जानती थी लेकिन फिर भी मैंने जानबूझकर वो उससे पूछ ही लिया क्या तरीका है बॉस। तो उसने कहा तुम्हें कुछ ज्यादा नहीं करना है बस जैसा जैसा मैं कहूंगा तुम्हें वैसा वैसा करना है। उसने धीरे से अपना हाथ मेरे जांघ पर रख दिया और मेरी जांघ को धीरे धीरे सहलाने लगा।

मैंने इस चीज का कोई भी विरोध नहीं किया और उसे ऐसा करने दिया। वह काफी देर तक मेरी जांघ सहलाते रहा और अब उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लन्ड पर रख लिया। मैंने फटाक से अपना हाथ उसके लन्ड के ऊपर से हटा लिया और उसे कहा आप यह क्या कर रहे हो कोई देख लेगा।

उसने कहा कोई बात नहीं मेरी जान कोई नहीं देखेगा। इतना कहकर को फिर से मेरी जान से लाने लगाओ और अब धीरे-धीरे उसका हाथ मेरी चूत को टच कर रहा था। फिर उसने धीरे-धीरे अपना हाथ मेरी शर्ट के अंदर घुस आते हुए मेरे बूब्स पर रख दिए और अब उन्हें अपने हाथों से दबाने लगा।

क्योंकि सिर्फ स्टेज की लाइट जल रही थी और सारी लाइटें उस आदमी पर थी जो लेक्चर दे रहा था इसलिए पीछे की तरफ बिल्कुल अंधेरा था और ऐसा करते हुए उसे कोई और देख भी नहीं सकता था। जैसे ही उसने मेरे बोस जवानी शुरू कीजिए मुझे मस्ती चढ़ने लगी और मैं गर्म होने लगी। फिर बॉस ने कहा मैंने आगे आगे जाता हूं तुम मेरे पीछे पीछे आ जाना।

फिर बॉस अपनी सीट से उठे और धीरे से पिछले दरवाजे से निकल गए। मैं भी दो मिनट के बाद वहां से उठी और पिछले दरवाजे से बाहर चली गई। बॉस वही नुक्कड़ पर खड़ा था और उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे खींचते हुए स्टोर रूम में ले गया। उसने स्टोर रूम का दरवाजा अंदर से लॉक किया और मुझे दीवार से सटाकर किस करने लगा।

मैं समझ चुकी थी कि आज ही है चोदे बिना मुझे मानेगा नहीं और प्रमोशन का भी सवाल था तो इसलिए मैं भी उसका साथ देने लगी। और उसने मेरी शॉर्ट कुर्ती और मेरे बड़े बड़े बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा।

फिर उसने अपनी पैंट खोली और अपना लन्ड बाहर निकालते हुए मेरे हाथ में पकड़ा दिया और मैं उसके लन्ड को जाने लगी और वह मुझे बेतहाशा गर्दन पर और छाती पर चूमे हीं जा रहा था। फिर उसने मेरी स्कर्ट के अंदर से मेरी पेंटी को नीचे किया और अपना लन्ड मेरी चुत पर रख दिया। उसने मेरी एक टांग को उठाकर अपना लंड मेरी चुत के अंदर घुसा दिया और मुझे जोर जोर के झटके देने लगा।

क्योंकि बहुत दिनों के बाद मैं सेक्स कर रही थी इसलिए जैसे ही उसका लंड मेरी चुत के अंदर घुसा तो मेरे मुंह से आह की आवाज निकल गई और मैंने उसको कस के पकड़ कर गले लगा लिया। वह मुझे तेजी से चोदे जा रहा था और उसके झटकों से मुझे भी आनंद आने लगा था। फिर उसने मुझे टेबल के सहारे घोड़ी बना दिया और पीछे से अपना लंड मेरी चुत में डाल दिया।

अब वह मुझे जैसे ही झटके देता तो मेरे बूब्स जोर जोर से हिलते तो बॉस मुझे कहता तुम्हारे बूब्स बड़े ही कमाल के हैं काश इतने बड़े बूब्स मेरी बीवी के भी होते। इस तरह वह मुझे लगातार चोदे ही जा रहा था। चोदते चोदते उसने मेरी गालों को पकड़ा और मेरी मुंडी को घुमाते हुए पीछे से मेरे होठों पर किस करने लगा।

अब मैं झड़ चुकी थी और थोड़ी थकान भी महसूस होने लगी थी। अब बॉस भी आह्ह.. उह… की आवाज निकाल रहा था और वह भी झड़ने की वाला था। फिर उसने बोला कि मेरी वह भी मुझे अपना माल उसके मुंह पर नहीं निकाल सकती इसलिए आज मैं अपना माल तुम्हारे मुंह पर निकालना चाहता हूं।

ना कह कर उसने अपना लन्ड मेरी चुत से बाहर निकाला और मुझे सीधा करते हुए अपने लन्ड से एक पिचकारी मारते हुए सारा माल मेरे होठों और गालों पर निकाल दिया। उसका गरम गरम मेरे फेस पर निकल चुका था और मैं अब टिशू से अपने फेस को पूछ कर साफ कर रही थी।

फिर बॉस ने मुझे बोला तुम्हारा प्रमोशन पक्का है। अब उसने अपनी पैंट पहनी और मुझे यह कहते हुए चला गया कि मैं लेक्चर रूम में जा रहा हूं तुम भी दो मिनट बाद नीचे रूम में आ जाना।