मैडम की जवान बेटी को चोदा

हेलो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और हाजिर हूं मैं आज फिर आपके लिए एक नई कहानी लेकर। यह बात तब की है जब मैं 12वीं में पढ़ता था और मेरे घर वालों ने मैथ पढ़ने के लिए मेरी एक ट्यूशन रखवा दी थी।

हर रोज शाम को 4:00 से 6:00 बजे तक मैं पढ़ने के लिए मैडम के घर जाता था और वहां पर पढ़ाई करता था। मैडम की एक बेटी थी वह मेरी ही उम्र की थी और बहुत ही खूबसूरत थी। जब मैंने उसे पहली बार देखा था तो मेरा दिल उसी समय उस पर आ गया था।

मुझे पहली नजर में ही उस से मोहब्बत हो गई थी। शायद वह भी मुझे लाइक करती थी पर मैडम के सामने कभी उससे बात करने का मौका ही नहीं मिला। एक दिन जब मैडम मुझे पढ़ा रही थी तो मैडम कुछ देर के लिए बाथरूम गई तो उसकी लड़की मेरे पास आकर बैठी और कुछ बातें की।

जब मैं समझ गया कि यह लड़की भी शायद मुझे लाइक करती है तो मैंने अपना नंबर एक कागज पर लिखकर उसको पकड़ा दिया। फोन नंबर लेकर उसे अपने ब्रा मैं छुपा कर कमरे से बाहर निकल गई और अपने कमरे में चली गई।

फिर क्या था उस रात तक उसका फोन आ गया और हमने करीबन 15 मिनट तक बात की। अब जब भी मैं ट्यूशन पढ़ने के लिए जा रहा तो हम दोनों की नजरें मिलती और हम इशारों ही इशारों में एक दूसरे से बातें कर लिया करते थे। और घर आकर उससे फोन पर घंटों बातें होनी शुरू हो गई थी।

एक दिन मैंने उससे कहा चलो कहीं बाहर मिलते हैं। तो उसने कहा बाहर जाने की कोई जरूरत नहीं है कल मेरी मम्मी घर पर नहीं होगी तुम घर पर ही आ जाना। साइड मैडम मुझको यह बताना भूल गई कि कल वह घर पर नहीं होगी और छुट्टी कर लेना।

इसलिए मैं उस दिन थोड़ा जल्दी ही 3:30 बजे मैडम के घर पर पहुंच गया। मैं जब मैडम के घर पहुंचा तो उसकी बेटी वहां पर अकेली बैठी हुई मेरा इंतजार ही कर रही थी। जैसे ही मैं पहुंचा हम दोनों एक दूसरे से लिपटकर गले मिले। फिर मैंने धीरे से उसकी गर्दन पर एक किस किया और वह कांप उठी।

मेरा लन्ड पूरी तरह खड़ा हो चुका था और पेंट से बाहर निकले को फड़फड़ा रहा था। फिर क्या था मैं उसे कमरे के अंदर ले गया और उसके होठों के रस को पीने लगा। वह भी मुझे चूमने लगी और हम दोनों किसिंग में लीन हो गए।

फिर मैंने धीरे से उसकी टी शर्ट उतारी और अपनी कमीज़ भी खोल कर एक तरफ रख दी। फिर उसके अभी ताजा ताजा बड़े हुए चिकने बूब्स देखकर मेरा लन्ड तो और अकड़ गया और मैंने उसके बूब्स पर अपना हाथ रखा और उन्हें धीरे-धीरे दबाने लगा।

अब मैंने उसकी ब्रा भी उतारी तो उसके नंगे बूब्स देखकर मैंने आव देखा ना ताव सीधा उनको अपने मुंह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगा। वह सिसकियां भरने वाला की ओर सेक्सी आवाजें निकालने लगी। उसके मुंह से उन आवाजों को सुनकर मेरा मन और मचलने लगा और मैंने उसकी जींस भी उतार दी और पैंटी भी उतार दी।

मैं उसकी गोरी चुत को देखकर दंग रह गया। क्या मस्त चिकनी चुत थी। उसने बोला कि उसने अभी कल ही शेव किया है। तो मैंने बोला हां क्यों नहीं तुम्हें पता जो था कि आज तुम्हारी चूदाई होने वाली है। फिर मैंने उसकी चूत में धीरे से बोली की तो वह अपनी गांड उठा कर पूरे मजे लेने लगी और हाथों से बेडशीट को पकड़ कर इकट्ठा करने लगी।

थोड़ी ही देर में उसकी चुत बहुत गर्म और गीली हो गई। अब उसकी चुत लाल हो गई थी और उसकी लाल चुत देखकर मेरा लन्ड उसकी चुत में घुसने के लिए बिल्कुल तैयार था। फिर मैंने अपना लन्ड उसकी चुत पर रखा और धीरे-धीरे उसे अंदर घुसाने लगा। जैसे ही मेरा पूरा लन्ड उसकी चुत के अंदर घुसा।

वो एकदम से तिलमिला उठी और उसका पूरा बदन मचलने लगा। मैंने धीरे धीरे से झटके देना शुरू कर दिया तो उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और अपने नाखून मेरे पीठ पर घर गड़ाने लगी। मैं भी उसकी गर्दन पर लगातार किस करे जा रहा था। और उसके बूब्स को भी हाथों से सहला रहा था।

अब मैं उसे बोला कि पोजीशन चेंज करते हैं। अब मैं बैठ गया और उसको अपनी गोदी में बैठा लिया। उसकी पीठ मेरे पेट से सट रही थी और हम दोनों के पैर एक तरफ ही थे। अब मैं उसके बूब्स को दोनों हाथों से पकड़कर दबा दिया और लंड उसकी चुत में घुसा कर उसे ऊपर नीचे करने लगा।

अब वह जोर-जोर से उममह… ओह… हाय… जैसी नशीली आवाज निकाल रही थी। मैं उसकी ना बाजो में इतना मंत्रमुग्ध हो गया कि मैंने अपना सारा माल उसकी चुत के अंदर ही निकाल दिया। जैसे ही उसकी चुत के अंदर मेरा गरम गरम माल गिरा वह एकदम से संतोषजनक आवाज में कराह उठी। मैं लेट गया और वह भी मेरे ऊपर लेट गई और थोड़ी देर आराम करने के बाद हम दोनों एक दूसरे को किसिंग करने लगे।

अब हम दोनों ने अपने अपने कपड़े पहन लिए हैं और फिर से एक दूसरे को अपनी बाहों में जकड़ कर चूमना और चाटना शुरू कर दिया। वह तो अब और उत्तेजित हो गई थी और मुझे चुम रही थी। लेकिन मैंने कहा अरे अब देर बहुत हो चुकी है और मुझे घर जाना चाहिए नहीं तो लोगों को शक हो जाएगा कि आज इसकी मैडम घर पर भी नहीं थी और यह इतनी देर उनके घर में क्या कर रहा था।

और रही बात तुम्हारी तेजना को मिटाने की तो कोई बात नहीं किसी दिन बाहर मिलते हैं तो तुम्हें अच्छे से शांत करूंगा। इतना कहकर मैंने उससे एक गुड बाय किस लिए और अपने घर को चला गया। उस दिन के ठीक 15 दिन बाद उसने मुझे बाहर मिलने के लिए हामी भर दी।

हम दोनों एक होटल में एक कमरा बुक किया और करीबन 4 घंटे में एक साथ रहे और इन 4 घंटों में हमने लगभग 3 सेशन किए और उस दिन काफी मजे लिए। अब इस बात को 4 साल हो गए हैं और हमारा ब्रेकअप भी हो चुका है लेकिन आज भी कभी-कभी हमारी बात एक दूसरे से हो जाती है।