बहन को होटल में ले जाकर वर्जिनिटी तोड़ी

हेलो दोस्तों मेरा नाम आकाश है और मैं आज आपके लिए एक हिंदी सेक्स कहानी लेकर आया हूं। मैं उम्मीद करता हूं कि आपको यह कहानी पसंद आएगी और आप उस कहानी का आनंद लेंगे। मैं बीस साल का हूं और दिखने में काफी हैंडसम लगता हूं।

मेरे लन्ड का साइज साढे 6 इंच है और यह काफी मोटा भी है। मैंने हाल ही में बाल भी पास की है और अब मुझे किसी कॉलेज में एडमिशन लेना था इसलिए मैं अपने दोस्तों और अपने रिश्तेदारों से किसी अच्छे कॉलेज के बारे में पूछ रहा था।

मेरे घर के साथ ही मेरे चाचा का घर है। मेरे चाचा की बेटी जो कि 24 साल की है और उसका नाम शालिनी है। दिखा में वह भी बहुत सुंदर है और उसने मुझे बताया कि तुम मेरे वाले कॉलेज में ही एडमिशन ले लो। वहां पढ़ाई बहुत बढ़िया है और तुम्हारे चाचा की वहां जान पहचान है इसलिए तुम्हारी फीस भी थोड़ी कम हो जाएगी।

मुझे उसकी बात अच्छी लगी और मैंने शालिनी कि कॉलेज में ही एडमिशन लेने का फैसला कर लिया। अब कॉलेज स्टार्ट हो गए थे और मुझे हर रोज कॉलेज जाना होता था। क्योंकि कॉलेज मेरे घर से लगभग 15 किलोमीटर दूर था इसलिए मैं हर रोज बाइक लेकर को ले जाया करता था। शालिनी बस से कॉलेज आते थे और मैं बाइक से जाता था।

1 दिन शालिनी मेरे घर आई और वह बोली कि कल से हम दोनों एक साथ बाइक पर ही कॉलेज चले जाया करेंगे अगर तुम्हें कोई एतराज नहीं है तो। इससे मेरे बस का किराया भी बच जाएगा और सोने की भी बचत होगी। मैंने कहा ठीक है कल से हम दोनों इकट्ठे ही चलेंगे। फिर अगले दिन मैंने बाइक निकाली और वह बाइक की पिछली सीट पर बैठ गई और मैं बाइक चलाने लगा।

अब उसने मेरी कमर को पकड़ लिया था लेकिन मेरा ध्यान बाइक चलाने की ओर था इसलिए मैंने इस चीज पर ध्यान नहीं दिया। श्री राम कॉलेज पहुंचे और सभी क्लासेस लगाने के बाद जब हमें घर वापस आना था तो मैं बाइक स्टैंड पर शालिनी का इंतजार कर रहा था।

फिर वह आए तो हम दोनों बाइक पर बैठकर घर को वापस आने लगे तो शालिनी ने मुझसे पूछा क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है। मैंने कहा अरे नहीं है। तो उसने मुझसे पूछा तो क्या तुम अभी तक वर्जिन हीं हो। उसकी यह बात सुनकर मैं तो थोड़ा हैरान हो गया लेकिन फिर मैंने कहा हां मै वर्जिन ही हू।

फिर उसने मुझसे कहा अरे तुम दिखने में इतने हैंडसम हो लेकिन अभी तक तुमने कोई गर्लफ्रेंड नहीं बनाई। तुम मैंने फिर कहा अरे मुझे अब तक ऐसी कोई लड़की मिली ही नहीं जो मेरी गर्लफ्रेंड बनने के लायक हो। इतना सुनने के बाद वह थोड़ी आगे की ओर होकर बैठ गई और उसने मुझे कसकर कमर से पकड़ लिया और उसके बूब्स मेरे पीठ को टच हो रहे थे और मेरा लंड खड़ा हो गया था।

जैसे ही हम अपने गांव में घुसने वाले थे तो वह पीछे होकर बैठ गई और उसने मेरी कमर को भी छोड़ दिया। फिर हम अपने अपने घर को चले गए। फिर रात को जब मैं सोने लगा तो बाइक पर जो कुछ भी हुआ था वह मेरे दिमाग में बार बार घूम रहा था।

बस शालिनी के बारे में नहीं सोचा जा रहा था और मैंने यह अनुभव किया कि शालिनी दिखने में काफी खूबसूरत है और उसका फिगर भी काफी मस्त है। मैंने आज से पहले शालिनी को कभी भी नोटिस नहीं किया था इसलिए मैंने उसकी तरफ कभी भी आकर्षित नहीं हुआ था। लेकिन आज की घटना के बाद मेरा दिल उस पर आ गया था और अब मैंने उसके साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताना चाहता था।

फिर अगले दिन हम दोनों कॉलेज की ओर निकल पड़े तो मैंने उससे पूछा क्या तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है। तो उसने मुझे कहा कि पहले था लेकिन अब नहीं है। फिर मैंने उससे पूछा कि तुम वर्जिन हो कि नहीं। तो उसने मुझसे कहा कि उसने किस्स वगैरह की है लेकिन कभी सेक्स नहीं किया।

तो मैंने कहा कि क्या तुम सेक्स करना चाहोगी। थोड़ी देर वो कुछ नहीं बोली लेकिन फिर उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और अपना सर मेरे कंधे पर रख दिया और अपने बूब्स को मेरे पीठ के साथ सटा कर बैठ गई। फिर वह बोली हां तुम मुझे अच्छे लगते हो और मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहूंगी।

फिर क्या था मैं उसे कॉलेज के बदले किसी होटल में ले गया और वहां उसे एक कमरे में ले गया। वहां जाकर हम दोनों में बिना कोई वक्त गंवाएं एक दूसरे को चूमना शुरू कर दिया और अपनी जीभ से एक दूसरे के मुंह को चाटने लगे। फिर हम दोनों ने एक दूसरे के सारे कपड़े उतार दिए और उसके बूब्स चूसने लगा और वह भी सिसकियां भरने लगी।

अब मैंने अपना लन्ड उसके मुंह में डाल दिया और अपने मुंह से उसकी चुत को चाटने लगा। वह थोड़ी ही देर में झड़ गई लेकिन मैंने उसकी चूत को चाटना जारी रखा। फिर मैंने अपना लन्ड उसके मुंह से बाहर निकाला और उसकी चुत में उंगली करने लगा। मैं लगातार उसकी चुत में उंगली करे जा रहा था और उसके बूब्स को भी चाट रहा था।

फिर बोल एक बार और झड़ गई तो मैंने सोचा क्यों ना अब इसकी चुदाई की जाए। फिर मैं बेड पर लेट गया और वह मेरे लन्ड को अपनी चुत पर रखकर धीरे-धीरे अपनी चुत में घुसाते हुए नीचे की और बैठने लगी।

पहले तो काफी देर तक उसने मेरा आधा गांधी अपनी चुत में घुसाया लेकिन जब उसे मस्ती चढने लगी तो वह पूरा लन्ड अपनी चुत में लेकर ऊपर नीचे करने लगी। अब वह सेक्सी आवाजें निकाल रही थी और मैंने उसे नीचे लेट आया और फिर से उसकी चुत में लंड देकर जोर जोर से चुदाई करने लगा।

मैं झड़ने वाला था और मैंने उसे कसकर पकड़ लिया और अपना सारा माल उसकी चुत के अंदर ही निकाल दिया। अब मैं बेसुध होकर उसके ऊपर ही लेट गया और काफी देर तक ऐसे ही उसे के ऊपर लेटा रहा और उसे चूमते रहा। फिर थोड़ी देर बाद हम दोनों उठे और अपने कपड़े पहने।

फिर मैंने उसे एक गोली लाकर दिया और कहा कि तुम गोली खा लेना। फिर मैंने उसे अपनी बाइक पर बैठाया और हम कॉलेज की तरफ चल दिए।