किसी और की शादी में सुहागरात मना ली हॉट मुस्लिम लडकी ने!

एक बार फिर से नाजनीन ने गफूर को अपनी बूब्स की गली दिखाई और नजाकत के साथ गांड को मटका के चल दी. गफूर का लंड आज के ही दिन में चौथी बार खड़ा कर दिया था इस लड़की ने. दुबई में तो गफूर को रंडीबाजी काऐसा चस्का लगा था की वो खुद को रंडियों के पास जाने से रोक नहीं सकता था. लेकिन यहाँ सिन कुछ और था. चाचा के वहां शादी में आया था और गफूर को ये लड़की ने बहुत लाइन दी, शायद वो दुबईवाला था इसलिए.

नाजनीन की बात करें तो वो 19 साल की लड़की हैं जिसने अभी कुछ समय पहले ही अपनी पढ़ाई ख़तम की हैं. और वो आजकल सिलाई का काम सिख रही हैं. उसकी कच्ची झांटवाली चूत के अंदर लंड को खाने की लालसा और लालच जागी हैं और गफूर के डोले सोले देख के वो उसके ऊपर मोहित हुई हैं.

संगीत का कार्यक्रम खत्म होने के बाद खाने का प्रोग्राम था. गफूर ने मरून कलर की शेरवानी पहनी थी और आधी बोतल इतर की छिडक ली हो वैसी खुसबू लगाईं थी. खाने का प्रोग्राम चालु ही था तब उसने नाजनीन को सीडियों से ऊपर जाते हुए देखा. वो भी खुद को रूक नहीं सका और पीछे निकल लिया. सीडियों के ऊपर चढ़ते हुए उसका दिल ऐसे जोर जोर से धडक रहा था जैसे कोई ट्रेन का इंजन हो. शाम की हलकी ठंडी में भी उसके चहरे पर पसीने का अहसास होने लगा था. पायजामे के अंदर लंड ऐसे बेकाबू था जैसे किसी घोड़े को बिना लगाम के छोड़ दिया हो!

अपने लौड़े को कैसे भी कर के कंट्रोल में कर के सीडियां ख़त्म की. नाजनीन ऊपर खड़ी हुई थी और उसकी निगाहें सीडियों के ऊपर ही थी, जैसे वो भलीभाँती जानती हो की उसका लट्टू पीछे आनेवाला ही हैं! उसकी बुर में भी लंड के गरम गरम अहसास को लेने के लिए एक उतावलापन सा आया था.

गफूर ने नाजनीन को जाते ही पकड लिया. एक धक्का दे के नाजनीन ने उसकी चुंगल से छुटना चाहा, लेकिन ये सब सिर्फ दिखाने के लिए था. मन तो उसका भी किया की गफूर की पतलून को खोल के उसके लौड़े को मसल मसल के चूस ले और अपनी गरम योनी के अंदर इस लंड को डलवा के चुदाई का सुख लूट ले!

गफूर ने नाजनीन के कान के पास अपना मुहं लगा के कहा: जानेमन सुबह से मेरे अंदर गर्मी बढाई हैं, अब इतनी जल्दी क्यूँ छूटना हैं?

नाजनीन: आर कोई आ गया ओ?

गफूर: तब की तब देखेंगे, वैसे भी सब निचे खाने के ऊपर कुत्ते के जैसे टूटे पड़े हैं, उपर कोई मरने के लिए आएगा!

नाजनीन: ह्म्म्म.

गफूर को यकीन ही नहीं हो रहा था की ये लड़की इतनी आला ग्रांड रंडी हैं की इतनी जल्दी मान जायेगी. वो आज अपनी शेरवानी के ऊपर गुस्से था की साला शर्ट पेंट पहना होता तो और भी जल्दी नंगे होने को मिलता.

नाजनीन के हाथ को पकड के उसने सीधे ही अपना लंड स्पर्श करवा दिया. लौड़े की साइज का जायजा अभी नाजनीन ने ऊपर से ही लिया थ लेकिन उसका मुहं खुला ही रह गया. गफूर की पेंट में एक नन्हा सा अजगर मुहं फुला के बैठा हुआ था जो बुर के बिल में घुस के उसे खुरेदने के लिए बेताब सा था.

नाजनीन ने गफूर के कान के पास कहा: आप का तो कितना मोटा हैं?

गफूर: अंदर डालूँगा तो और मोटा लगेगा!

नाजनीन: मेरे को तो डर लग रहा हैं! कैसे अंदर होगा ये!

गफूर:प्यार से!

ये कह के गफूर ने अपने हाथ से नाजनीन के उभरे हुए चुन्चो को पकड लिया. एक मीठी सी आह निकल गई नाजनीन के मुहं से और उसकी निपल्स के ऊपर जैसे चार सौ चालीस वोट का झटका सा लगा. लेकिन इस मीठे दर्द का अपना ही मजा था जिसका अनुभव जिन्दगी में हर किसी लड़की को पहली बार होता हैं जिसे वो पूरी जिन्दगी नहीं भूल पाती हैं!

गफूर के बदन के अंदर भठ्ठी के जैसी गर्मी बनी हुई थी उसके गोटे टाईट हुए थे और लंड तो ऐसा कडक था की जैसे पृथ्वी की सतह से कोई रोकेट जल्दी ही आकाश की तरफ लांच होनेवाला हो!

गफूर के लौड़े को पायजामे के ऊपर से ही मसल दिया नाजनीन ने. अब गफूर ने नाजनीन के बूब्स को और जोर से मसला और बोला: क्या मस्त चुन्ची हैं तेरी तो डार्लिंग, जैसे क्रिकेट के टेनिस बॉल्स!

नाजनीन होंठो में ही हंस दी.

गफूर ने अपने नाड़े को खोलने के लिए जैसे ही हाथ लम्बा किया नाजनीन ने उसे रोका और बोली: यहाँ नहीं ऊपर छत पर चलो!

गफूर: वहां तो काफी धुल होगी ना.

नाजनीन: नहीं इन लोगों ने शादी के लिए पूरा धो के साफ़ किया हैं, शायद गद्दा भी होगा.

गफूर मन ही मन सोचने लगा की ये बहन की लौड़ी लंड लेने के लिए सब प्लान कर के आई हैं. उसे दुबई में मिली एक रंडी की याद आई जो पाकिस्तान से थी लेकिन एकदम चुदक्कड किसम की थी वो.

नाजनीन आगे और गफूर उसके पीछे. मटकती गांड को देख के गफूर का लंड और भी फुला, उसका तो मन किया की यही इस छिनाल लड़की के कपडे निकाल के सीडियों के ऊपर खड़े खड़े पेल डालूं!

छत पर आते ही गफूर ने इस लड़की को बाहों में जकड़ लिया अपनी. नाजनीन के बालों में लगे हुए गजरे से मोगरे के फुल निकल के निचे गिरे, जैसे गद्दे के ऊपर सुहागरात की सेज सज रही हो.

गफूर ने अब नाडा खोला तो नाजनीन कुछ नहीं बोली. चाँद के ओछे उजियारे में उसकी आंखे पायजामे से निकलते हुए लंड के ऊपर ही थी. वाह क्या लंड था वो, एकदम मोटा और लाल सुपाडेवाला. नाजनीन मोबाइल के ऊपर जो पोर्न वीडियो देखती थी उसके अन्दर ऐसे ही लंड देख के वो अपनी चूत में ऊँगली करती थी!

गफूर के गले का थूंक सूखने लगा था और उसके लौड़े के अंदर जैसे एक अलग ही उन्माद ने जन्म ले लिया था. नाजनीन ने जैसे ही लंड को सीधे हाथ से पकड़ा गफूर ने इस मुस्लिम लड़की को जोश के साथ बाहों में जकड़ के उसकी कमर के ऊपर लगी हुई उस लम्बी सी ज़िप को एक ही झटके में खोल दिया. सफ़ेद ब्रा में इस लड़की के दूध से भरे हुए गोल चुंचे अब गफूर की आँखों के सामने थे. नाजनीन उसके लौड़े को पकड के जैसे एकदम दबाने के मूड में थी.

गफूर ने भी एक ही झटके में इस लड़की को पलंग में डाल के उसकी ब्रा के हुक को खोल दिया. काले बड़े गोल निपल्स और उफफ्फ्फ्फ़ ये कातिलाना चुन्चिया! अन्तर्वासना की एक अलग ही लहर गफूर के तन बदन को जला रही थी. और कामुकता  का ऐसा ही कुछ सैलाब नाजनीन की बुर में भी आ चूका था. उसकी चूत का दाना जैसे फड़क रहा था लौड़े के सुपाडे के साथ लड़ने के लिए और उसकी चूत का होल लंड को अपनी गिरफ्त में पकड के उसकी गर्मी को और वीर्य को अपने अंदर निचोड़ लेने के लिए बेताब सा था!

गफूर ने अपने होंठो को नाजनीन के होंठो से लगा दिया और दोनों एक दुसरे के थूंक को चखने लगे जिसके अंदर कोई सवाद नहीं होता हाँ.

नाजनीन लौड़े का मर्दन करने लगी और अब गफूर ने इस लड़की की दोनों चुन्ची को एक एक कर के चुसना चालू कर दिया.

नाजनीन के मुहं से अब मोअनिंग निकल रही थी. गफूर ने अपने लंड को उसकी सलवार के उपर से ही चूत पर घिसा. ये किसी अचम्बे से कम नहीं था इस मुस्लिम लड़की के लिए. उसकी आँखे खुली रह गई इस गर्म लंड के अहसास से. लंड उसने पहले भी लिया था  लेकिन इस लंड की बात ही कुछ और थी.

अब मौके की नजाकत को देखते हुए गफूर ने नाजनीन को पूरा नंगा कर के गद्दे पर लिटा दिया.

नाजनीन की घुंघराली झांट के अंदर उसकी चूत थी जो पानी पानी हो गई थी. गफूर ने एक चुम्मा दे के चूत को और भी प्यासा कर दिया. नाजनीन ने अब गफूर को गले से पकड के अपने और करीब कर लिया. गफूर समझ गया की इस से बढ़िया समय और कोई नहीं होगा लंड इस लड़की की चूत में चिभाने के लिए!

उसने अपने लंड को एक हाथ से पकड़ा और दुसरे हाथ से नाजनीन की चूत की फांको को खोला. वाह क्या गुलाबी बुर था इस हॉट माल का जो पानी से भीग चूका था. गफूर ने लंड को रख के एकदम सचोट निशाना लगा के एक ही झटके में लंड को अन्दर कर दिया.

नाजनीन ने अपने हाथ गफूर के कंधे के ऊपर ऐसे खुरचे की नाख़ून गफूर की चमड़ी को चिभ गए. नाजनीन के मुहं से अह्ह्ह्हह्ह ऊईईई की चीख निकल पड़ी और उसकी कोमल भोसड़ी ने गफूर का मजबूत लंड एक ही झटके में निगल लिया.

उसके बदन को इन्स्टंट करंट लगा था जैसे और शरीर के अंदर ना जाने कहाँ से इतनी गर्मी आ गई. कांपते होंठो से वो कुछ कहना चाहती थी लेकिन गफूर ने उसके होंठो के अंदर आवाज को निकलने नहीं दिया, वो कुछ कहती उसके पहले उसने उसे एक और लिप किस दे दी.

दोनों एक दुसरे के होंठो को चूसने लगे और गफूर अब अपने हाथो से नाजनीन के कूल्हों को पकड के वहां पर अभी अपना प्यार जताने लगा.

नाजनीन ने होश संभाल लिया था, उसकी जान पड़ते ही गफूर गांड के बल उछलने लगा. वो अपने लंड को नाजनीन की बुर में अंदर बहार करने लगा. नाजनीन भी कमर के बल उछल के अपनी गांड को पटक पटक के इस मजबूत देसी लौड़े को भोगने लगी.

शादी किसी और की थी और उनकी सुहागरात होने से पहले ही यहाँ छत के ऊपर इस मुस्लिम लड़की की सुहागरात हो गई. गफूर ने इस छिनाल को 5 मिनट तक खूब पेला और अपने लंड के बीज भी उसके बुर में ही छोड़े.

कपडे पहनते वक्त जब उसने नाजनीन को बोला की वो गोली ला देगा तो उसने कहाँ उसकी जरूरत नहीं हैं क्यूंकि दो दिन में उसकी मासिक  की डेट हैं और शायद ये सब उसके साथ निकल जाएगा, गफूर शेरवानी के बंद बांधते हुए सोच रहा था तभी इस चूत में आज कुछ हटके गर्मी लग रही थी.

नाजनीन पहले निचे आई और फिर गफूर भी शादी में शामिल हो गया. दुसरे दिन दोनों ने एक दुसरे को नम्बर भी दे दिये. गफूर का मन तो इस लड़की के साथ निकाह करने को था. लेकिन वलीमा के वक्त उसे उसके एक दोस्त ने बताया की नाजनीन की तो मंगनी डेढ़ साल पहले ही उसके चचा के बेटे अल्ताफ के साथ लगी हुई हैं!