दुबई में बिजनेस ट्रिप के दौरान किया सेक्स

हेलो दोस्तों मेरा नाम पल्लवी है और मैं एक आईटी कंपनी में मैनेजर हूं। मेरा फिगर 38-25-36 और मेरे स्पीकर ने पूरी कंपनी का मन मोह रखा है। सभी मुझसे बहुत प्यार से बात करते हैं और मेरे जूनियर्स मुझे काफी इज्जत देते हैं। लेकिन क्या यह बात समझती हूं कि वह सभी मौका मिलने पर मुझे चोदने की ख्वाहिश रखते हैं।

अभी-अभी 1 महीने पहले हमारे ब्रांच में एक नया लड़का ट्रांसफर होकर आया था। उसको प्रमोशन दिया गया था। और मेरा दिल उस पर आ गया था। क्योंकि उसकी एक गर्लफ्रेंड थी इसलिए मैं अपने दिल की बात उसको ना बता पाई। अब मैं मन ही मन उससे सेक्स करने के सपने देखती।

उसको याद करके अपनी चुत में उंगली डालकर मजे लेती और हस्तमैथुन करती। 1 दिन की बात है हमारे बॉस ने कहा कि तुम्हें एक हफ्ते के टूर के लिए दुबई जाना होगा और वहां जाकर कंपनी का प्रेजेंटेशन पेश करना होगा। तुम अपने साथ जो ट्रांसफर होकर नया लड़का आया है उसको ले जाओ।

वो काम करने में अच्छा है और लगभग तुम्हारा आधा काम वही कर देगा और तुम पर ज्यादा बोझ नहीं पड़ेगा। बॉस की बात सुनकर तो मेरे मन में लड्डू फूट पड़े क्योंकि मैं इसी दिन का तो इंतजार कर रही थी। मैंने बॉस को कहा ठीक है जैसा आप चाहें। फिरदौस ने यह बात जाकर उसने लड़के को बता दी और उसने भी हामी भर दी।

फिर क्या था मैंने अपना सारा सामान पैक किया और जिस दिन हमें जाना था उस दिन मैं एयरपोर्ट पहुंच गई। एयरपोर्ट पर वह मुझे मिला और हम दोनों जाकर अपनी सीट पर बैठ गए। हम दोनों की सीट साथ साथ ही थी तो मैं खिड़की की तरफ बैठ गई और वह मेरे बगल में बैठ गया। प्लेन दुबई के लिए निकल पड़ा और हम दोनों बातें करने लगे।

मैंने एयरफोन लगाकर गाने सुनने शुरू कर दिए। फिर मैंने उससे पूछा कि क्या तुम गाने सुनोगे। उसने हां कहा मैंने एक कान का एयरफोन निकालकर उसके कान में लगा दिया। अब वह गाने सुनने लगा और हम दोनों गानों का आनंद लेने लगे। तभी मैंने जानबूझकर सोने का नाटक करते हुए अपना सर उसके कंधों पर रख दिया।

पहले तो उसने मुझे एक दो बार हिलाकर उठाने की कोशिश की लेकिन फिर उसने हार मान ली और अपना कंधा थोड़ी और नीचे झुका कर मेरे सर को आरामदेह स्थिति में अपने कंधों पर रख लिया। फिर जब हम दुबई मिलान करने वाले थे तो उसे मुझे उठाया और बोला नींद पूरी हुई क्या। मैंने मैंने उसे थोड़ा प्यार भरी आवाज में बोला, ” सॉरी सॉरी कब मेरी आंख लग गई मुझे पता ही नहीं चला तुम थोड़ी देर कंधा नीचे करके बैठे रहे तुम्हें तो कंधों में दर्द हो रहा होगा।”

वह बोला अरे मुझे कुछ नहीं हुआ 2 घंटे की तो बात थी हम उतरने वाले हैं। मै होटल में जाकर आराम कर लूंगा तो सब कुछ सही हो जाएगा। फिर हम दुबई में उतरे और गाड़ी में बैठकर अपने होटल की तरफ चल दिए। हमारी मीटिंग 2 दिन बाद थी इसलिए हम आज का दिन आराम नहीं करने वाले थे और कल सुबह ही शायद कहीं घूमने का प्लान बना सकते थे।

हमारे बॉस ने हमें बताया नहीं था लेकिन उन्होंने तुम्हारे लिए सिर्फ एक ही कमरा बुक किया था लेकिन उस कमरे में दो सिंगल सिंगल बेड थे। जब मैं वहां जाकर पता चला तो मन में तो मैं बहुत कुछ थी लेकिन उस लड़के के सामने मैंने बोला हमारा बॉस भी बहुत कंजूस है पैसे बचाने के लिए साले ने एक ही कमरा बुक किया। उसने मुझसे पूछा तुम्हें कोई दिक्कत तो नहीं। मैंने कहा अरे मुझे कोई दिक्कत नहीं है अगर तुम्हें कोई दिक्कत होगी तो मुझे जरूर बताना। उसने कहा अरे मुझे भी कोई दिक्कत नहीं है।

हम दोनों अपने अपने कमरे में चले गए फिर हम दोनों ने बारी-बारी से शॉवर लिया और अपने अपने बेड पर लेट कर सो गए। अगली सुबह जब हम उठे तो हम घूमने के लिए निकल गए और पूरा दिन हम दोनों ने दुबई घुमा और अच्छा अच्छा खाना खाया। अब वह मेरे साथ खुल गया था और हम दोनों अब एक दूसरे से कंफर्टेबल होकर बातें कर रहे थे।

रात को हम होटल में आए तो थक गए थे इसलिए जल्दी सो गए। उसके अगले दिन हमने मीटिंग के लिए प्यारी करनी थी। इसलिए हमने सुबह का नाश्ता किया और अपने काम में जुट गए। उस दिन मैंने जानबूझकर एक लूज टी शर्ट पहन रखी थी और एक शॉर्ट निकर पहन रखी थी। उसने मेरे चिकने पैर पूरी तरह जांघों तक दिखाई दे रहे थे।

हम दोनों अपनी प्रेजेंटेशन तैयार करने लग गए। मैं जानबूझकर उसके सामने बैठकर लिख रही थी और उसे मेरे बूब्स साफ-साफ दिखाई दे रहे थे और उसके मुंह में पानी आ रहा था। फिर हमने पूरा दिन असाइनमेंट तैयार की और रात को खाना खाकर सोने लगे। थोड़ी देर लेटने के बाद मैंने उससे बोला मैं कल के लिए थोड़ी नर्वस हूं इसलिए मुझे अकेले नींद नहीं आ रही क्या मैं तुम्हारे साथ आ कर लेट सकती हूं।

आज सारा दिन मुझे निहारने के बाद वह भी मेरे मजे लेना चाहता था इसलिए उसने कहा मुझे कोई दिक्कत नहीं है तुम आ जाओ। मैं उसके साथ जाकर लेट गई। फिर मैंने उसकी तरफ देखते हुए उसे बहुत ही प्यार से कहा कि मैं उसे बहुत पसंद करती हूं। मैंने उसको अपनी तरफ खींच कर उसके होठों पर एक किस्स दी।

उसने भी मुझे कमर से पकड़ लिया और चूमने लगा मैं समझ गई कि यह भी आज पूरा तैयार है होगा भी तो नहीं आज पूरे दिन इसने इंतजार जो किया। फिर हम दोनों ने जल्दी से एक दूसरे के सारे कपड़े उतार दिए। और हम दोनों एक दूसरे के बदन को चाटने लगे और वह मेरे बूब्स को मसलते हुए मेरी गर्दन पर किस कर रहा था।

फिर उसने मेरे बूब्स को चूसना शुरू कर दिया और धीरे धीरे मेरी पेट को चाटते हुए मेरी चुत की तरह पहुंच गया और अपनी जीभ मेरी चुत पर रख कर उसे चाटने लगा। अब मेरे मुंह से सिसकियां निकलने लगी और मुझे आनंद आने लगा। फिर थोड़ी देर बाद उसने अपना लन्ड मेरी चुत पर रख दिया और मेरे हाथों में अपने हाथ डालकर मुझे चोदने के लिए तैयार हो गया।

फिर उसने धीरे से अपने होंठ मेरे होंठों पर रखे और अपना लन्ड धीरे-धीरे मेरी चुत के अंदर घुसाना शुरू कर दिया। अब मैंने आपको अपनी बाहों में ले लिया और उसकी पीठ को अपने नाखूनों से खरोचना शुरू कर दिया। उसने भी चुदाई की रफ्तार बढ़ा दी और अब मेरे मुंह से उम्हह… एहह… ईह्ह… जैसी कामुकता भरी आवाजें निकलने लगी।

अब मैंने उसे नीचे लिटा दिया और उसके लन्ड के ऊपर बैठकर खुद ऊपर नीचे हो कर चुदाई के मज़े लेने लगी। अब मैं खुद तेजी से ऊपर नीचे हो रही थी और मेरे शरीर में एक अद्भुत फिलिंग का एहसास हो रहा था। काफी देर चुदाई करने के बाद अब मैं झड़ने वाली थी और मैंने उसकी कमर को कस कर पकड़ा हुआ और एक सेक्सी आवाज निकालते हुए और अपने शरीर को अंगड़ाते हुए झड़ गई।

थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ गया और उसने अपना माल मेरी गांड के ऊपर निकाल दिया। फिर हम दोनों उसके बिस्तर से उठ कर मेरे वाले बिस्तर पर जाकर एक दूसरे की बाहों में बाहें डाल कर सो गए। उस दिन हम पूरे नंगे होकर ही सोए और एक दूसरे की शरीर की गर्मी को महसूस किया।