दोस्त की गर्लफ्रेंड का अकेलापन दूर किया

हेलो दोस्तों मेरा नाम जतिन है और मैं भोपाल में रहता हूं। मेरे लैंड का साइज 7 इंच है और यह 2 इंच मोटा भी है। बात उस समय की है जब मैं कॉलेज में पढ़ता था और मेरा एक दोस्त भी मेरे साथ पढ़ता था। उसकी एक गर्लफ्रेंड भी थी जो उसे लगभग 2 सालों से डेट कर रही थी।

वह दोनो, करुण और मैं हम चार लोगों का एक ग्रुप था और जहां भी जाते थे इकट्ठे ही जाते थे। हम काफी सारा समय कैंटीन में बैठकर गप्पे सप्पे मारने में बिताते थे। मुझे कल्याण की गर्लफ्रेंड रोशनी बहुत ही गजब लगती थी। जब भी कभी वह मुझसे हाथ मिलाती थी तो मेरा लैंड खड़ा ही हो जाता था।

उसको याद करके मैं कई बार मुट्ठ मार चुका था। और किसी तरह एक बार उसे चोदना चाहता था। क्योंकि वह ही इतनी कमाल की लड़की। उसका फिगर एकदम मस्त था। थोड़े बड़े आकार के बूब्स पतली सी कमर और उभरी हुई गांड देखकर तो किसी का भी लंड खड़ा हो जाए।

कल्याण काफी बार उसकी जुदाई कर चुका था और अब दोनों तो वह बहुत ज्यादा खुल गए थे और कभी-कभी हम दोनों के सामने ही किसिंग वगैरा करने लग पड़ते थे। इन दोनों को किसिंग करते देख मुझे जलन तो बहुत होती थी लेकिन मैं कर भी क्या सकता था मैं शाम को घर जाकर मुट्ठ मार के रोशनी को याद कर लेता था।

एक दो महीने बाद की बात है कल्याण और रोशनी का किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया और उन्होंने एक दूसरे को बुलाना बंद कर दिया। मुझे जब यह पता चला तो मैंने कल्याण से पूछा भाई क्या बात हो गई किस बात का झगड़ा है तुम दोनों में जो तुम एक दूसरे से बात ही नहीं कर रहे।

उसने बोला वही यार लड़कियों की पुरानी आदत है। जो काफी दिन दोनों में सुलह ना हुई तो उन दोनों ने ब्रेकअप कर लिया। एक दिन जब मैं स्कूटी से बाजार जा रहा था तो रास्ते में मुझे रोशनी मिली। मैंने हाल चाल पूछने के लिए स्कूटी रोक ली और उससे पूछा कि क्या बात हुई जो तुमने कल्याण से ब्रेकअप कर लिया।

उसने बोला कि उसे कल्याण को किसी और लड़की के साथ 1 दिन एक रेस्टोरेंट में देखा था और जब उसने पता लगाया तो उसे मालूम हुआ कि उसका चक्कर कहीं और भी चल रहा है इसलिए हम दोनों ने ब्रेकअप कर लिया। वो उदास दिख रही थी और मैं समझ गया कि यही सही मौका है उसकी चुत मारने का।

मैंने कहा अच्छा कोई बात नहीं अगर तुम्हें किसी भी चीज की जरूरत हो तो मुझे कॉल कर लेना मैं तुरंत हाजिर हो जाऊंगा। वह बोली ठीक है कोई बात नहीं। मैंने बोला चलो मैं तुम्हें घर तक ड्रॉप कर देता हूं। वो मान गई और मैं उसे स्कूटी के पीछे बैठा कर ले जाने लगा।

मैं जानबूझकर खड्डों के पास से स्कूटी निकाल रहा था और अचानक से ब्रेक मारने पर वह उछलकर मेरे ऊपर आ जाती थी और जब उसके बूब्स मेरे पीठ से लगते हैं तो मेरा लन्ड पैंट फाड़ कर बाहर निकलने को तैयार हो जाता।

मैंने घर जाकर रोशनी को व्हाट्सएप पर मैसेज कर दिया और हम दोनों ने उस रात करीब 2 घंटे तक बात की और काफी आपस में घुल मिल भी गए। फिर क्या था इसी तरह लगभग 1 हफ्ते तक हम दोनों ने बातें होती रही और अब धीरे-धीरे उसकी उदासी भी कम होती जा रही थी।

एक दिन अचानक उसने कल्याण को किस की नई गर्लफ्रेंड के साथ कॉलेज में देख लिया तो वह एक कोने में जाकर रोने लगी। जब मैंने उसे रोते हुए देखा तो कहा तुम क्यों चिंता करती हूं अब जो हो गया वह हो गया अब अपने आगे के बारे में सोचो। वह बोली मुझे इसने ठुकरा कर अच्छा नहीं किया।

उसके अगले दिन ही उसका मुझे फोन आया और उसने कहा कि उसे कोई जरूरी काम है मैं उसके घर पर आ जाऊं। मैं फटाफट से उसके घर चला गया उसके घर जाने पर मुझे पता चला कि उसके घर पर कोई भी नहीं है और वह अकेली ही है। मैंने उसे जाकर पूछा कि क्या बात है।

तो उसने कहा मैं बहुत अकेली हूं मेरा अकेलापन दूर कर दो। मैंने कहा क्या मतलब मैं समझा नहीं। हम दोनों एक सोफे पर साथ साथ ही बैठे थे और वह मुझे कामुकता भरी नजरों से देखे ही जा रही थी। तभी उसने मेरे गर्दन को पीछे से दोनों हाथों से पकड़ा और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख कर किस करने लगी।

मैंने भी उसकी कमर पर अपने हाथ रखे और उसके होठों के रस को चूसने लगा। फिर क्या था किसिंग करते करते हम दोनों ने एक दूसरे के सारे कपड़े उतार दिए और मैं उसके बूब्स को ले मुंह में लेकर चूसने लगा। मैंने कहा बेवकूफ है तो जान लो उसने इतने अच्छे माल को ठुकरा दिया।

उसने मुझसे कहा की वह चाहती है कि मैं उसका सारा अकेलापन दूर कर दूं और उसे संतुष्ट कर दू। मैंने कहा कोई बात नहीं जानेमन अभी देखो होता है क्या। इतना कहकर मैं सोफे पर बैठ गया और उसने जमीन पर अपने हाथ रख कर पैर मेरी तरफ सोफे के ऊपर रख दिए। इस तरह से लेटी हुई थी कि उसकी चुत मेरे लंड के ऊपर आ रही थी।

मैंने उसकी चूत में अपना लन्ड डाला और उसकी कमर को पकड़ के ऊपर नीचे करने लगा। कसम से मैं इस पोजीशन में पहली बार चुदाई कर रहा था और मुझे गजब का मजा आ रहा था। वह भी चुदाई का खूब मजा ले रही थी और अपने मुंह से कमाल की नशीली सेक्स भरी आवाज निकाल रही थी।

फिर हमने काफी देर तक की पोजीशन में सेक्स किया। अब मैंने उसको अपने हाथों पर पर रखकर झुकने के लिए कहा और उसने वैसा ही किया। मैं उसके पीछे चला गया और अपना लन्ड उसकी चुत में घुसा कर उसे पीछे से ही चोदने लगा। उसके बूब्स को कस के पकड़ कर जोर जोर से दबाने लगा।

वह चिल्लाने और कर आने लगी। शायद वह इस पोजीशन में पहली बार सेक्स कर रही थी इसलिए उसे थोड़ा सा दर्द हो रहा था लेकिन कुछ देर के बाद वह भी जोर जोर से पीछे कि तरफ धक्के मारकर पूरा लन्ड अपनी चुत की गहराइयों तक अंदर लेेने लगी। इसी तरह करीबन 5 मिनट उसे चोदने के बाद वो झड़ गई।

फिर मैंने उसे सोफे पर लेट आया और अपना सारा माल उसके बूब्स और मुंह पर निकाल दिया। जो माल उसके बूब्स पर गिरा था वह उसे अपने पूरे शरीर पर मिलाने लगी और उसके मुंह पर गिरे हुए माल को जीभ से चाटने लगी।

कसम से इस बार मुझे सेक्स करके बहुत मजा आ रहा था। फिर वह नहाने के लिए बाथरूम में चली गई और मैंने भी अपने कपड़े पहन के सब कुछ सफाई करके रख दिया। जब वह बाहर आई तो मुझसे मुझे थैंक्स बोला और एक पैशनेट किस्स की।

उसके बाद मैं अपने घर चला गया था और उस दिन के बाद मैंने काफी बार रोशनी को चोदा और उसके ढेर सारे मजे लिए।