दीदी की चुत और गांड मारी – 1

नमस्ते दोस्तों में आशा करता हूँ आप सभी अच्छे से होंगे और अपने लंड – चुत की अच्छे से सेवा कर रहे होंगे।

तो चलिए जल्दी से शुरू करते है , यह कहानी मेरी और मेरी बड़ी दीदी की है जो की मुझे से ३ साल बड़ी है। और हा मै आपको पहले ही बता दू की यह कोई काल्पनिक कहानी नहीं है यह एक बिलकुल सच्ची घटना है जो मेरे और मेरी बड़ी दीदी के बिच मे हुई थी। इस कहानी मे आपको पता चलेगा की कैसे मैने मेरी बड़ी दीदी को कॉलेज में उसके बॉयफ्रैंड का लंड चूसते हुए रँगे हाथ पकड़ा और फिर उसे ब्लैकमेल करके उसकी चुत और गांड दोनों मारी। मै आशा करता हू की आप सभी ने लंड हाथ मे ले लिया होगा और सभी भाभी लोगो ने अपनी चुत में उंगली डाल ली होगी।

मेरा नाम रोहित है और मेरी बड़ी दीदी का नाम प्रीती। दीदी मुझे से ३ साल बड़ी है। यह बात तब की है जब मैने अभी नया नया कॉलेज मे एडमिशन लिया था और दीदी भी उसी कॉलेज मे ३ ईयर की स्टूडेंट थी। पहले पहले तो मुझसे लगता था की दीदी बहुत सीधी साधी लड़की है।

पर जब मैने दीदी के कॉलेज में एडमिशन लिया तो मुझे पता चला की दीदी तो एक नंबर की रंडी है।मैने अभी नया नया कॉलेज मे एडमिशन लिया था इस लिए मै दीदी के साथ ही ऑटो मे कॉलेज जाता था।

माफ़ करना मे आपको मेरी दीदी के बारे मे बताना ही भूल गया , दीदी की हाइट करीब ५’५” होगी और दीदी का फिगर (३४-२८-३६) उसका रंग भी बहुत साफ़ है , लम्बे काळा बाल जो उसकी गांड तक आते थे जब वह चलती थी तो उसके बाल उसकी गांड के साथ लहराते है।
कसम से यह देख कर तो कॉलोनी सभी लड़के तो क्या मेरा भी मन हो जाता था दीदी को घोड़ी बनाने का। सच कहु तो दीदी थी एक धांसू माल।

दीदी और मै साथ ही कॉलेज ऑटो मै जाते थे , मैने बहुत बार यह नोटिस किया की दीदी जान मुझ कर ऑटो मे मेरे साथ न बैठ कर सामने वाली सीट पर बैठती थी। और कॉलेज के गेट के अंदर भी मुझे से बिलकुल भी नहीं मिलती थी। शुरू शुरू मे तो मैने इन सभी बातो पे नोटिस नहीं किया पर एक बार मै कॉलेज की कैंटीन मे समोसा खाने गया वह दीदी भी किसी लड़के साथ बैठी थी वह भी एक दम चिपक कर, मुझे देखते थी दीदी ने उस लड़के से कुछ कहा और वह से चली गई।

फिर मे वही कैंटीन मे समोसा लेकर बैठ गया तभी वह लड़का जिसके साथ दीदी बैठी थी वह उठकर मेरी पीछे वाली सीट पर आकर बैठ गया। वहा कुछ लड़के पहले से बैठे थे वह लड़के उसके दोस्त ही थे जो मुझे उनके बातो से पता चला।

वह लड़का जो मेरी दीदी के साथ बैठा था उसका नाम समीर था। अब मै समीर और उसके दोस्तों की बाते सुनने की कोशिश कर रहा था।

लड़का १ :- समीर आखिर तूने इस प्रीती को पटा ही लिया।
समीर :- और नहीं तो क्या एसा कभी हुआ है क्या की मै जिस लड़की को चाहु और वह मेरे लंड की नीचे न आए।

लड़का २ :- बात तो सही है तेरी समीर पर यह तो बता अभी तक प्रीती को अपना लंड चुसवाया की नहीं।
समीर :- तू लंड चुसवाने की बात कर रहा है मैने तो न जाने कितनी बार इसकी चुत मारी है और रही बात लंड चुसवाने की तो वह तो यह रांड मेरा लंड रोज चुस्ती है लाइब्रेरी के पीछे वाले टॉयलेट मे।

लड़का १ :- क्या बात कर रहा है यह तो बहुत बड़ी वाली रंडी निकली यार।
समीर :- सच बोलू तो मैने आज तक बहुत सारी लड़कियों को अपना लंड चुसवाया है पर प्रीती जैसा कोई नहीं चुस्ती थी। बस एक अब इसकी गांड मारनी है उसके बाद तो साली को तुम लोगो को दे दुगा।

मै आप लोगो को तो बताना ही भूल गया समीर हम्हारे कॉलेज का गुंडा था।उन सभी की बातो को सुन कर मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा था की मेरी बड़ी बेहेन इतनी बड़ी रंडी है। फिर मैने प्लान बनाया की क्यों ना मै भी दीदी की चुदाई करू उसे ब्लैकमेल करके पर उसके लिए मुझे उससे रंगे हाथ पकड़ना था। इस लिए अब मै अपने दिमांग मे प्लान करने लगा के कैसे दीदी को रंगे हाथ पकडू।

अगले दिन जब मै और दीदी कॉलेज के लिए जा रहा थे तब मेरे दिमांग मे एक आईडिया आया की क्यों ना मै दीदी और समीर का वीडियो बना कर दीदी को मेरे साथ चुदाई के लिए मजबूर करू।

आज कॉलेज मे मेरा ध्यान दीदी पे ही था कि कब वह कैंटीन के पीछे वाले टॉयलेट कि तरफ जाती है इस लिए आज मै पूरा दिन कैंटीन के आस पास ही घूम रहा था करीब २ घंटे बाद मैने दीदी को कैंटीन की तरफ आते हुए देखा तो मुझे यकीन हो गया की दीदी का आज का भी प्लान है समीर का लंड चूसने का।

थोर्डी देर कैंटीन मे बैठने के बाद दीदी ने अपने फ़ोन से किसी को मैसेज किया और फिर कैंटीन के पीछे वाले टॉयलेट की और चली गई। (मुझे यकीन था की दीदी ने यह मैसेज समीर को ही किया था।)

करीब ५ मिनट बाद समीर भी वह आ गया और वह सीधा उस टॉयलेट मे चला गया। थोर्डी देर बाद मै भी समीर के पीछे पीछे गया और टॉयलेट के पीछे वाली खिड़की से अंदर देखने लगा।वहा समीर और दीदी कुछ बात कर रहे थे।

समीर :- क्या बात है मेरी जान आज तो कमाल की लिपस्टिक लगाई है पूरी रांड लग रही है।
दीदी :- तुम्हारे लिए ही लगाई है मेरे राजा।

समीर:- तो क्या इरादा है तेरा मेरी रंडी।
दीदी :- इरादा तो आज सिर्फ तुम्हारा लंड चूसने का नहीं है , उसके साथ-साथ मुझे तुम्हारे लंड का पानी भी पीना है।

यह बात सुन कर समीर के फेस पर एक स्माइल आ गई।

समीर :- यह हुई ना बात मेरी रंडी।

एसा बोलते ही समीर ने दीदी को अपनी ओर खींचा और किस करने लगा। किस करते करे वह दीदी की गांड पर अपने हाथ फेर रहा। थाकरीब ५ मिनट की किस के बाद समीर ने दीदी को उसके घुटनो पर बैठा दिया।

घुटनो पे बैठते ही दीदी ने समीर की जीन्स को उतार दिया और उसके लंड को हाथ मे लेकर हिलने लगी।

दीदी:- देखा समीर मैने तुम्हारा यह लंड चूस चूस कर कितना लम्बा और मोटा बना दिया है।
समीर :- हा मेरी जान पर यह मत भूलना की तेरी यही चूचिया जो इतनी बड़ी हुई है उसके पीछे मेरा ही हाथ है।

फिर दीदी ने समीर का लंड मुँह मे ले लिए और चूसने लगी।

दीदी:- आ आ आआआ (दीदी की मुँह से आवाज आने लगी जैसे लंड चूसते टाइम आती है।)

फिर मैने जल्दी से अपना फ़ोन निकला और वीडियो बनाने लगा।

समीर :- हां मेरी रंडी आ आ आ आ आ क्या लंड चुस्ती है तू आ आ आ आ।

दीदी लंड चूसने मे बिजी थी। दीदी की लिपस्टिक से समीर का लंड लाल हो गया था। (कुछ देर बाद समीर का होने वाला।)

समीर :- प्रीती मेरा होने वाला है आ आ आ आ आ (दीदी ने उसकी बात पे ध्यान नहीं दिया और समीर का लंड चुस्ती रही।)

समीर :- आ आ आ प्रीती मेरा मुठ निकलने वाला है आ आ आ आ।
दीदी:- मेरे मुँह मे ही निकल दो मुझे आज तुम्हारा मुठ पीना है।

फिर कुछ ही देर ने समीर ने अपना मुठ दीदी के मुँह मे भर दिया और सारा का सारा मुठ दीदी ने पी लिया।
फिर वह दोनों उठे और अपने कपडे ठीक किये और वह से निकल गए।

मै भी वीडियो सेव करके वहा से निकल गया।

अभी के लिए इतना ही आगे मै बताउगा की कैसे मैने दीदी को वीडियो दिखा कर ब्लैकमेल किया और कैसे उसकी चुत और गांड मारी। और दीदी ने उसके सारे बॉयफ्रैंड्स के बारे मे भी बताया मुझे।

इस कहानी के अगले पार्ट्स मे और भी मज़ा आएगा। तो अगले पार्ट को जरूर पढ़िए गा। मै जल्द ही आपके लिए इसका अगला पार्ट ले कर आउगा।

धन्यवाद।