चोर आए और मुझे चोदकर चले गए

हैल्लो दोस्तों, हिंदी सेक्सुअल स्टोरीज की वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है आज मैं आपको एक ऐसी कहानी बताने जा रही हूं जिसकी मैंने सपने में भी कल्पना नहीं की थी कि मेरे साथ कभी ऐसा भी हो सकता है।

मेरा नाम रीना महाजन है और मैं एक शादीशुदा औरत हूँ। मेरी उम्र 34 साल है। मेरे पति एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते है, वो इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के बिजनेस में है इसलिए वो अक्सर शहर से बाहर रहते हैं।

मेरे दो बच्चे है। एक लड़का एक लड़की है। अब में आपको अपने बारे में बता दूँ में एक खूबसूरत औरत हूँ और मेरे बूब्स का साईज 40 होगा। शादी से पहले भी कई बार सेक्स का मजा ले चुकी हूं लेकिन शादी के बाद मैंने किसी भी पराए मर्द के साथ कोई भी संबंध नहीं बनाए।

यह बात अक्टूबर महीने की है और ठंडी का मौसम आने वाला था और कंबल वगैरह निकल चुके थे। रात को मेरे दोनों बच्चे अपने कमरे में जाकर सो गए और मैं टीवी देख रही थी कि मुझे टीवी देखते देखते ही नींद आ गई।

कुछ देर के बाद अचानक से कुछ टूटने की आवाज़ से मेरी नींद खुल गयी तो मैंने आस पास देखा तो कोई भी नहीं था। मुझे लगा कि शायद मेरे बच्चों में से कोई बात न जाने के लिए उठा होगा और किसी चीज से टकरा गया होगा। अब मेरे रूम की लाईट बंद थी और टी.वी चल रहा था।

मैं उठी और टी.वी बंद किया, फिर मैंने सोचा शायद टी.वी में से आवाज़ आई है। मैंने टी.वी बंद करके जैसे ही बाथरूम का दरवाजा खोला तो मेरे होश उड़ गये। मेरे सामने एक आदमी खड़ा था जिसके चेहरे पर कपड़ा बँधा हुआ था और हाथ में चाकू था।

उसने मुझे धक्का मारा और अपने हाथों से मेरा मुँह बंद कर दिया, तो में कुछ भी समझ नहीं पाई कि क्या हो रहा है? अब में बहुत डर गयी थी और उसने एक कपड़ा लेकर मेरा मुंह बांध दिया था जिस कारण मैं चिल्ला भी नहीं पा रही थी।

उसने मुझे बेड पर बैठा दिया और बोला अगर तुम ठीक ही तो मैं तुम्हें चाकू मार दूंगा। मैं डर के मारे काँप रही थी और मेरी जुबान से एक लफ्ज़ भी नहीं निकल रहा था।

फिर उसने मुझसे पूछा कि पैसे वगैरा कहां रखे हुए हैं। तू मैंने अपना सर हिलाया तो समझा कि मैं कुछ बोलना चाहती हूं उसे मेरा मुंह खोल दिया। फिल्मी गाना हमारे घर में कोई भी पैसे नहीं है सारे पैसे मेरे पति ने बैंक में जमा करवा कर रखे हुए हैं।

फिर उसने बोला गहने व कह रहा हूं कि वह बता किधर है। फिर मैंने कहा मेरे पास मंगलसूत्र और कंगन के अलावा और कुछ भी नहीं है। फिर उसने पूछा कि घर में कौन-कौन है तो मैंने बताया कि शेर सुनाया वह मेरे दो बच्चे जो दूसरे कमरे में सो रहे है।

फिर उसने मुझे बैंड के साथ बांध दिया और मेरे मुंह में कपड़ा ठूंस कर मुंह को बांध दिया। फिर वह पूरे घर की तलाशी लेने लगा लेकिन उसे कुछ भी नहीं मिला।

फिर उन्होंने मेरा मंगलसूत्र और कंगन वगैरह उतार लिए है और जब वह मेरा मंगलसूत्र खींच रहा था तो मेरा मंगलसूत्र मेरे ब्लाउज में फंस गया और जब उसे ज़ोर से खींचा तो ब्लाउज थोड़ा फट गया वह मेरे बूब्स साफ दिखने लगे।

अब वह मेरे बूब्स की तरफ देख रहा था और उसका खड़ा लंड पैंट में से उभर रहा था। फिर उसने मेरा ब्लाउज कॉल कर एक तरफ फेंक दिया और मेरी ब्रा भी उतार दी।

अब्बू मेरे बूब्स को दबाने लगा और मेरे बड़े बड़े बूब्स उसके हाथ में भी फिट नहीं आ रहे थे। फिर उसने कहा चुपचाप मेरा साथ देगी तो मैं चुपचाप यहां से चला जाऊंगा। मेरे पास कोई और चारा भी नहीं था इसलिए मैंने खुद को उसके हवाले कर दिया।

अब उसने प्रमुख उठा उतारा तो वह 26-27 साल का एक नौजवान लड़का लग रहा था। उसने मेरे बूब्स को अपने मुंह में लेकर सूचना शुरू कर दिया है और मुझे भी अपनी जवानी के दिन याद आने लगे। मैं भी सिसकियां भरने लगी और उसकी उत्तेजना बढ़ाने लगी।

फिर उसने अपना 8 इंच लंबा लंड पैंट से बाहर निकाला और सीधा मेरे होंठों पर रख दिया। उसका गरम गरम लंड जैसे ही मेरे होठों को छुआ तो मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसके लन्ड को मेरे लेकर किसी लॉलीपॉप की तरह चूसना शुरू कर दिया।

लंड चूसने के बाद मेरा पूरा मुंह लाल हो गया था और काफी गर्म हो गई थी। फिर उसने मेरी साड़ी खोल दी और पेटीकोट भी उतार दिया।

वह मेरी चिकनी चुत को देखकर मंत्रमुग्ध हो गया था और बिना किसी देरी के उसने अपना लन्ड मेरी चुत के ऊपर रख दिया और रगड़ने लगा।

उसने एक जोर का झटका दिया है और पूरा लन्ड मेरी चुत में घुसा दिया। दर्द के मारे चिल्ला भी नहीं पा रही थी क्योंकि उसने अपने हाथ से मेरा मुंह बंद कर रखा था।

अब वो आगे पीछे धक्के मारने लगा। अब मुझे भी मज़ा आने लगा था।

अब मेरे मुँह से उम्म्म्म….. आह….. उफ्फ…. की आवाजे निकालने लगी थी।

वह काफी तेजी से अपना लन्ड अंदर बाहर कर रहा था और काफी दिनों के बाद मेरी इतनी शानदार चूदाई हो रही थी। मैं अपनी आंखें बंद करके चुदाई का आनंद ले रही थी और जन्नत की सैर कर रही थी।

करीबन 10 मिनट की चुदाई के बाद उसने एक ज़ोरदार झटका मारकर अपना वीर्य मेरी चूत के अंदर ही गिरा दिया।फिर वह थोड़ी देर मेरे ऊपर लेटा रहा और मुझे चाकू दिखाते हुए बोला जाओ बाथरूम में अपने आप को साफ करो।

मैं बाथरूम में चली गई और जब खुद को साफ करके बाहर निकली तो चोर वहां से जा चुका था। इस घटना के बारे में किसी को नहीं बताया क्योंकि इस घटना के बारे में सोच कर मुझे शर्म और हंसी दोनों आ जाती है।

मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि कोई चोर मुझे इस तरह चोद कर चला जाएगा। लेकिन एक तरह से मुझे खुशी में थी कि फोटो ले मुझे अपनी जवानी के दिनों की याद दिला दी।

और एक बार फिर से मुझे अच्छी तरह संतुष्ट करके मुझे चर्मसुख महसूस कराया। अब मेरी फिर से चोदने की लालसा वापस आने लगी है और अब मैं शिकार की खोज में लगी रहती हूं।