दोस्तों संग मिलकर कार में किया सेक्स

मेरा नाम रश्मि है और मैं ग्रेजुएशन कर रही हूं मेरी उम्र 21 साल है। बात पिछले साल अक्टूबर महीने की है, गर्मियों का मौसम खत्म हो चुका था और ठंडी धीरे-धीरे बढ़ रही थी। कॉलेज में हमारे दोस्तों का एक ग्रुप था। एक ग्रुप में 5 लोग थे।

मेरी सहेली रेशमा के अलावा तीन और लड़के थे। एक दिन हम कैंटीन में बैठे थे कि सभी लोगों ने प्लान बनाया की क्यों राहुल जो कि उन तीनों में एक था उसके जन्मदिन के दिन पार्टी की जाए। पार्टी रात को होगी और सुबह तक चलेगी। लेकिन मैंने कहा मेरे घरवाले मुझे रात के 9:00 बजे के बाद घर से नहीं निकलने देते।

लेकिन सभी लोग जिद्द करने लगे कि तुम्हें तो आना ही पड़ेगा। तभी मेरी सहेली रेशमा ने कहा कि हम पढ़ाई का बहाना लगाकर मैं तुम्हें तुम्हारे घर से लेने आ जाऊंगी। मैंने कहा लेकिन हम कपड़ों का क्या करेंगे घर से तो तैयार हो के नहीं निकल पाऊंगी। तब रेशमा ने कहा कोई बात नहीं तुम मेरे घर पर आकर तैयार हो जाना।

मैंने हां कर दी और इस तरह हम सब लोगों का पार्टी करने का प्लान बन गया। उस दिन रेशमा ठीक 8:00 बजे मेरे घर पर पहुंच गई और मेरे घर वालों से बोला कि परीक्षा आने वाले हैं और हम दोनों आज रात भर मेरे घर पर बैठ कर पढ़ाई करेंगे। मेरे घर वालों ने मुझे जाने दिया।

मैं रेशमा के साथ उसके घर चली गई और वहां जाकर तैयार हो गई। हम दोनों उस ड्रेस में पटाखा लग रहे थे। करीब 10:00 बजे विक्की और राजू हमें लेने के लिए रेशमा के घर पर कार से पहुंच गए। मुझे नहीं पता था कि विक्की और रेशमा के बीच रिलेशनशिप चल रहा है।

उसने बताया कि अभी कल ही उसने उसको प्रपोज किया है। फिर क्या था विकी और रेशमा आगे वाली सीट पर बैठ गए और मैं और राजू पीछे सीट पर बैठ गए। थोड़ी दूर जाने के बाद विक्की ने गाड़ी रोक दी और रेशमा और विक्की आपस में किसिंग करने लगे। उन्हें देखकर मेरे तो रोंगटे खड़े हो गए।

मेरा भी मन कुछ करने को करने लगा। फिर मैंने राजू की तरफ देखा तो वह भी मेरी तरफ बहुत ही कामुकता भरी आंखों से देख रहा था। हम दोनों एक दूसरे की तरफ बैठे हैं और एक दूसरे को कस के पकड़ लिया और चूमने लगे। हमें ऐसा करते देख रेशमा और विक्की हैरान रह गए।

फिर उन्होंने हमसे कहा कि वहां तुम लोग तो कमाल के निकले चलो आज ग्रुप सेक्स किया जाए। इतना कहते ही विक्की और रेशमा एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे। रेशमा के सारे कपड़े उतर चुके थे और वह सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी। पहले तो मैं थोड़ा सा झिझक गई लेकिन सेक्स करने की तलब तो मुझे भी लगी थी इसलिए मैंने भी राजू के कपड़े उतारना शुरू कर दिया और राजू भी मेरे कपड़े उतारने लगा।

थोड़ी देर में हम चारों पूरे नंगे हो गए थे। रेशमा विक्की का लन्ड चूस रही थी और राजू ने मेरी चुत चाटना शुरू कर दिया था। जो सिर्फ मेरी चुत पर जी बड़ा काम मेरे तो जैसे प्राण ही निकल गए। जोर से चिल्ला उठी। सभी मेरी तरफ देख कर हंसने लगे और विक्की ने कहा यह तो अभी बस ट्रेलर है पूरी पिक्चर तो अभी बाकी है।

इतना कहते हैं विक्की ने ड्राइवर सीट को पीछे की तरफ कर किया और रेशमा उसके लन्ड पर बैठ गई और उसके ऊपर कूदने लगी। रेशमा और विक्की दोनों एक दूसरे से लिपट कर कभी किस करते, तो कभी विक्की रेशमा के मम्मों को चूसता तो कभी रेशमा विक्की के गर्दन पर किस करती और दांत गड़ा देती।

फिर क्या था राजू ने मुझे सीट पर लिटा दिया और मेरी दोनों टांगे उठा कर अपने कंधे पर रख ली और अपना लन्ड मेरी चुत पर रखते हुए एक जोर धक्का दिया। अब वह भी मुझे बेहतर बेतहाशा चोदे जा रहा था। मै भी उहहह… आहह… जैसी नशीली आवाजें निकालने लगी। मेरी नशीली आवाजों को सुनकर राजू की उत्तेजना और भी बढ़ गई और वह मुझे और जोर जोर से चोदने लगा।

मुझे तो अब कुछ भी समझ नहीं आ रहा था बस इतना पता लग रहा था कि मेरी बहुत अच्छे से चुदाई हो रही है। उधर रेशमा और विक्की झड़ दे चुके थे और विक्की में अपना सारा माल रेशमा के मुंह में निकाल दिया था और रेशमा किसी प्यासी कुतिया की तरह उसका सारा माल चाट कर पी गई।

अब थोड़ी देर में मैं भी झड़ने वाली थी इसलिए मैंने राजू को कसकर लपेटकर अपने पास खींच लिया और शायद वह भी झड़ने वाला था इसलिए मैं कामुकता की चरम सीमा पर थी और मैंने अपने नाखून उसकी पीठ पर बढ़ाने शुरू कर दिए। ना करते ही मैं झड़ गई और मेरे मेरे शरीर में एक अजीब सा करंट दौड़ा।

राजू भी अब झड़ने वाला था इसलिए उसने अपना लन्ड मेरी चुत से बाहर निकाला और सारा माल मेरे मम्मों पर निकाल दिया। उसके वीर्य की गरम-गरम बूंदे जब मेरे शरीर पर पड़ी तो मेरे शरीर में एक अजीब सी झनझनाहट हुई। फिर राजू भी थक चुका था और वह मेरे ऊपर आकर लेट गया।

मैं भी थक चुकी थी इसलिए मैंने भी उसको गले लगा लिया और हम दोनों जोर-जोर से सांसे लेने लगे। मैंने राजू को कहा कि तुम तो बहुत अच्छी चुदाई कर लेते हो। तो राजू ने कहा बस यही तो एक गुण है मुझमें।

उधर विक्की और रेशमा फिर से एक दूसरे को चूमने लगे थे और शायद को फिर से एक और बार सेक्स करने की तैयारी में थे। लेकिन हम दोनों ने उन्हें टोका और कहा कि क्या राहुल की बर्थडे पार्टी में नहीं जाना है क्या। वहां जाकर जो मन होगा वह करना।

हमारे कहने पर उन दोनों ने अपने आपको थोड़ा संभाला और हम उसकी बर्थडे पार्टी की तरफ चल पड़े। वहां जाकर हमने राहुल को जन्मदिन की शुभकामनाएं दी और केक काटकर सेलिब्रेट किया। फिर क्या था हमने शैंपेन की बोतल खोली और सब ने जमकर पी।

हम सब अपने अपने होशो हवास से बाहर हो चुके थे। मैं एक कमरे में जाकर सो गई। लेकिन रेशमा और विक्की मेरे पास वाले बेड पर आकर एक दूसरे को बहुत ही मजे में किस करने लगे। उन्होंने जल्दबाजी में एक दूसरे के कपड़े उतारे और चुदाई शुरू कर दी।

इतना देखने के बाद ही मेरी आंख लग गई और मैं सो गई। सुबह जब मेरी नींद खुली तो विक्की और रेशमा एक दूसरे की बाहों में थे। फिर मैंने रेशमा को उठाया और कहा कि चलो घर भी जाना है मेरे को। इतना कहते ही रेशमा ने विक्की को एक किस दी और हम दोनों अपने अपने घर को चल दिए।

कार में की गई कुछ दिन की चुदाई के बाद मेरे को तो जैसे चुदाई की आदत ही पड़ गई और मैं और राजू रिलेशनशिप में आ गए और उसके बाद हमने कई बार जमकर सेक्स किया।