बेटे ने अपनी मॉम की प्यास बुझाई

हेलो दोस्तों मेरा नाम मुस्कान है और मैं आज आपको अपने जीवन की एक सच्ची चुदाई की कहानी बताने जा रही हूं। मैं नोएडा में रहती हूं और मेरी उम्र 38 साल है।

मैं एक हाउसवाइफ हूं और मेरा फिगर 38-30-36 का है। दिखने में मैं किसी 30 साल की महिला से कम नहीं लगती और मेरी हाइट भी 5 फुट 5 इंच है। मेरे बड़े बड़े बूब्स किसी भी आदमी का मन मोह सकते हैं।

मेरे पति पार्सल भेजने और रिसीव करने के बिजनेस में हैं और हमेशा घर से बाहर ही रहते हैं और महीने में एक दो बार ही घर आते हैं। हमारा एक बेटा भी है जिसका नाम सोहन है और उसकी उम्र 18 साल है।

दिखने में वह बहुत ही सुंदर है और उसकी हाइट 5 फुट 7 इंच के करीब है। क्योंकि मेरे पति ज्यादातर घर से बाहर ही रहते हैं इसलिए हम मुश्किल से महीने में एक बार ही सेक्स कर पाते हैं और उस समय भी वह मेरी प्यास को नहीं बुझा पाते हैं।

एक औरत की प्यास वही समझ सकती है। मैं सारा दिन घर में अकेली रहती थी क्योंकि पूरा दिन स्कूल और ट्यूशन में ही बीता देता था। मैं मोबाइल में काफी देर तक पूर्ण देखती रहती हो और अपनी चुत में उंगली करके किसी तरह खुद को संतुष्ट करने की कोशिश करती।

लेकिन यह अकेलापन मेरी पप्यास और ज्यादा बढ़ा रहा था। फिर सुमन को स्कूल में सर्दी की छुट्टियां पड़ गई और अब वह सारा दिन घर पर ही रहने लगा। अब अपना सारा दिन उसे देखती रहती थी और मन में सोचती थी कि अब मेरा बेटा भी जवान होने लगा है।

एक समय था जब यह मेरी गोद में खेला करता था और आज ये इतना बड़ा हो गया है। फिर 1 दिन की बात है मैं सुबह सुबह बिस्तर समेट रही थी और तभी मैंने देखा कि सुमन के बिस्तर पर कुछ दाग लगा हुआ है।

मैंने जब गौर से देखा तो मुझे पता चला कि है तो उसके वीर्य गिरने का निशान है। मैं समझ गई कि अब उसका मन भी सेक्स करने के लिए चलने लगा है और किसी भी सेक्स की बहुत ज्यादा तलब है। मैंने उसे कुछ नहीं कहा और बेडशीट धो दिए। अगले दिन वह बाहर सोफे पर बैठकर टीवी देख रहा था तभी मैं बाथरूम से नहाकर बाहर निकली थी और मेरे बाल वगैरह गीले थे।

मैंने ब्रा नहीं पहनी थी और सिर्फ एक खुली टी-शर्ट पहन रखी थी। और नीचे एक पजामा पहन रखा था। मैं चौहान के पास जाकर बैठ गई और उसे पूछा कि क्या कर रहे हो तुम।

तो उसने बोला कि वह फिल्म देख रहा है। तभी अचानक एक सीना होता है जिसमें किसिंग सीन चल रहा होता है और धीरे-धीरे हीरो हीरोइन एक दोनों के सारे कपड़े उतार देते हैं और सेक्स करने लगते हैं।

मैंने देखा कि सोहन का लन्ड एकदम से खड़ा हो गया है और वह हड़बड़ी में चैनल बदलने की कोशिश करता है। लेकिन मैंने उसका हाथ पकड़ कर उसे रोक लिया और कहा तुम्हारी उम्र हो गई है यह सब चीजें देखने की।

फिर उसने मुझे कहा अरे मॉम यह सब अच्छा नहीं लगता। फिर मैंने उससे पूछा क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तुम्हारा उसके साथ यह सब करने को मन नहीं करता। जब उसने देखा कि मैं उसके साथ फ्रैंक हो रही हूं तो वह भी मेरे से खुलकर बातें करने लगा और बोला मन तो बहुत करता है लेकिन मेरी कोई गर्लफ्रेंड ही नहीं है।

फिर मैंने उससे कहा तुम मुझे अपनी गर्लफ्रेंड समझ ले और मैंने उसके हाथों को अपने कमर पर रख दिया। उसने कहा मॉम ये सब तो गलत है। मैंने कहा कुछ भी गलत नहीं है सब ठीक है। फिर मैंने उसकी पैंट उतारी और उसके लन्ड को हाथ में लेकर हिलाने लगी।

उसका लन्ड एकदम से टाइट हो चुका था और दिखने में काफी बड़ा और मोटा लग रहा था। उसके लन्ड का साइज लगभग 7 इंच लंबा और 2 इंच मोटा था। उसका इतना बड़ा लंड देखकर मेरे मन में खुशी के मारे लड्डू फूटने लगे।

फिर मैंने उसके हाथ को अपने बूब्स पर रख दिया और वह मेरे बूब्स को दबाने लगा।

मेरी कामुकता बढ़ने लगी और वह ने अपनी टी-शर्ट उतार दी और अपनी बेटे को अपने बूब्स के दर्शन करवाएं। फिर मैंने कहा तुम मेरा दूध पी सकते हो।

फिर सुबह में मेरे बूब्स को अपने नहीं में लिया और मेरी चूचियों को चूसने लगा। मेरा पूरा शरीर गर्म हो चुका था और अब मेरी चुत से पानी निकल रहा था।

फिर मैं और सोहन दोनों बेडरूम में आ गए और उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मेरे चुत के दर्शन किए।

फिर हम दोनों एक दूसरे को चुन्नी बकरी और सोहन मेरे बूब्स को मसलना शुरू किया हो और धीरे-धीरे मेरी छाती गर्दन और पेट को चाटते हुए मेरी चुत की तरफ बढ़ा।

मेरे पूरे शरीर में झनझनाहट हो रही थी और मेरी प्यास बढ़ती जा रही थी। मैंने सोहन के लंड को अच्छी तरह से खड़ा करने के लिए मुंह में लेकर चूसने शुरू कर दिया।

वो अब सिसकियां भरते हुए मेरे बालों को सहला रहा था। फिर उसने मेरी चुत पर अपने होंठ रखें और जीभ से मेरी चुत चाटना शुरू कर दिया।

हम दोनों अब 69 की पोजीशन में थे और एक दूसरे के चूप्पे लगा रहे थे। जब उसका लन्ड पूरी तरह से खड़ा हो गया तो मैंने उसके सामने अपनी टांगें फैला दी।

और उसने अपने लन्ड पर थूक लगाते हुए मेरी चुत पर अपना लन्ड रखा और एक जोरदार झटका दिया। उसका लन्ड एक ही झटके मेरी चुत के अंदर घुस गया और अपनी चुत में उसका लन्ड पाकर मुझे एक अजीब सी संतुष्टि महसूस हुई।

अब उसने झटके देने तेज कर दिए और मैं भी अपनी गांड उठा उठा कर चुदने लगी।

जैसा मैंने पोर्न फिल्मों में देखा था उसी तरह में पोजीशन बदल बदल कर उसे चोद रही थी और मुझे परमसुख मिल रहा था।

वह भी किसी योद्धा की तरह बिना पीछे हटे मुझे चोदे जा रहा था और उसकी चुदाई के दौरान दो बार झड़ भी चुकी थी। अब वह भी झड़ने वाला था और उसने मुझसे पूछा मॉम माल कहा निकालू।

तुमने मुझसे कहा बेटा अंदर ही डाल दे। फिर उसने मुझे कस के पकड़ते हुए सारा माल मेरी चुत के अंदर ही निकाल दिया।

उसके गरम गरम माल को के चुत के अंदर पाकर मुझे अपनी प्यास बुझती हुई महसूस हुई।

फिर वह मेरे ऊपर ही लेट गया और थोड़ी देर बाद वह था और अपने कपड़े पहनकर अपने कमरे में चला गया। उस दिन के बाद हम दोनों काफी फ्रैंक है और काफी कुछ साथ में ही करते हैं।