बहन की सहेली की सील तोडी

मेरा नाम राजू है और मैं दिल्ली में रहता हूं। मेरा कद 6 फुट का है वह मैं दिखने में काफी अच्छा हूं। मेरे लन्ड का साइज भाई 7 इंच है और यह 2 इंच मोटा भी है। यह कहानी मेरी बहन की सहेली शालिनी के बारे में है जिसकी मैंने कई बार चुदाई की है।

तो चलिए अब आपको कहानी के बारे में बताना शुरू करता हूं, मेरी बहन की एक बचपन की दोस्त है उसका नाम शालिनी है। बचपन से हमारे घर में आती जाती रही है और हम तीनों बचपन से एक दूसरे को जानते हैं।

अभी मैं अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद 2 साल बाद घर आया था और एक दिन जब शालिनी हमारे घर आई तो वह बहुत ही ज्यादा हॉट और सेक्सी हो गई थी। उसे देखते ही मेरा दिल उस पर आ गया और मैं उसकी चूदाई के सपने देखने लगा।

अब वह हफ्ते में एक दो बार हमारे घर आ ही जाया करती थी। इसलिए मैं भी उसे अब लाइन देने लगा था और वह भी मुझे शायद पसंद करने लगी थी। इस तरह अब हम दोनों एक दूसरे के करीब आते जा रहे थे। मेरा उससे चोदने का सपना धीरे धीरे पूरा होने की कगार पर था।

एक दिन मैंने उससे उसका नंबर मांग लिया और उसने बिना कोई हिचक के मुझे अपना फोन नंबर दे दिया और अब हम दोनों फोन पर बातें करने लगे थे। से बातें करते हो मुझे पता चला कि वह अभी तक बिजी ही है और उसने अभी तक कोई बॉयफ्रेंड भी नहीं बनाया है। फिर हम दोनों बाहर हिलने लगे और साथ में कपल्स की तरह घूमने भी लगे।

एक दिन जो वह हमारे घर आई तो मैंने घर का दरवाजा खोला और उसने मुस्कुराते हुए मेरी तरफ देखा और पूछा क्या तुम्हारी बहन घर पर है। मैंने कहा वो अंदर बेडरूम में बैठी है। यह सुनकर वह बेडरूम में चली गई और मैंने दरवाजा अंदर से बंद कर दिया और बेडरूम में जाकर बेडरूम का दरवाजा भी बंद कर दिया। उसने बोला यहां तो कोई भी नहीं है।

मैंने कहा हां जानेमन आज हम दोनों इस घर में अकेले हैं और आज मैं तुम्हें जन्नत की सैर करवाऊंगा। इतना कहते ही मैंने उसे बेड के ऊपर धक्का दे दिया और मैं भी उसके ऊपर जा गिरा। अब मैंने उसके होठों पर हूं उठाना कर दी है उसे 5 मिनट तक चूमता रहा। पहले तो उसमें थोड़ा विरोध किया लेकिन थोड़ी देर बाद वह भी मेरा साथ देने लगी और मुझे चूमने लगी।

अब मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए लेकिन वो बहुत ज्यादा जिद्द और विरोध कर रही थी। अब मैंने अपना ध्यान उसकी कमीज पर लगा दिया और उसकी कमीज उतारने के लिए मुझे बहुत मेहनत करनी पड़ी। जब वो नहीं मानी तो फिर मैंने उसे प्यार से समझाया कि देखो शालिनी, में तुम्हे आज ऐसे ही जाने नहीं देने वाला, मुझे इन्जॉय करने दो।

फिर इससे उसका विरोध थोड़ा कम हो गया और मैंने मौका देखकर उसकी कमीज भी नीचे उतार दी। अब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में बहुत ही सेक्सी लग रही थी। अब मेरे हाथ उसके पूरे शरीर पर दौड़ रहे थे। वो जोर जोर से सिसकारियां भर रही थी।

वह बार-बार बोल रही थी कि कोई देख लेगा लेकिन अब मुझ पर उसकी जवानी का भूत सवार हो चुका था। अब में उसके बूब्स को उसकी ब्रा के ऊपर से ज़ोर-ज़ोर से दबा रहा था। अब में उसे पागलों की तरह चाट रहा था और फिर मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी।

फिर मैंने भी अपने कपड़े उतारने शुरू किए और धीरे-धीरे में भी उसके सामने नंगा हो गया। तो इस पर उसने अपनी आँखें बंद कर ली। फिर मैंने उसे फिर से अपनी बाहों में लिया और उसे किस किया। अब वो भी पूरे मूड में आ गयी थी और मेरा साथ दे रही थी।

अब मेरा लंड बहुत टाईट हो गया था और अब मुझे डर था कि अगर में ऐसे ही खेलते रहा, तो ये बाहर ही अपना लावा उगल देगा इसलिए मैंने अपना एक हाथ उसकी पेंटी पर रख दिया और उसकी चूत पर से धीरे-धीरे सहलाना शुरू किया। फिर मैंने उसकी पेंटी उतार दी, तो वो बोली कि ये मत करो, इतना सब तो तुम कर चुके हो, प्लीज मुझे जाने दो, कोई देख लेगा, लेकिन मैंने उसकी पेंटी निकालकर फेंक दी।

फिर मैंने अपना हाथ उसके बूब्स पर रखा और हल्के से उसे दबाया और साथ ही उसका दूसरा बूब्स अपने मुँह में लेकर चूसने लगा। अब वो आअहह!!!, ओ माय गॉड, याहह…. जैसी आवाजे निकालने लगी।

अब मैंने अपना एकदम टाईट लंड उसकी चूत पर रखा और एक ज़ोर का झटका दिया। तो वो बहुत ही ज़ोर से चिल्लाई ओह माई गॉड, प्लीज ऐसा मत करो, नहीं नहीं, बाहर निकालो मैं मर जाऊंगी। राजू प्लीज दर्द हो रहा है, अब वो ज़ोर-जोर से रोने लगी थी, तो मैंने कहा कि अब ज्यादा दर्द नहीं होगा और धीरे से दूसरा झटका लगाया तो मेरा लंड आधा उसकी चूत में चला गया।

फिर वो सिसकते हुए बोली बहुत दर्द हो रहा है तो मैंने थोड़ा सा अपना लंड बाहर निकाला और फिर अपना लंड अंदर डाला।

फिर थोड़ी देर के बाद उसका दर्द कुछ कम हुआ और वो भी मजे लेने लगी। अब मै उसके ऊपर था और मेरे दोनों हाथ उसके हाथों को रोकने की कोशिश कर रहे थे और मेरे होंठ उसके होंठो पर थे।

यह बहुत सेक्सी पोज़िशन थी। मुझे जब भी याद आती है तो में मुठ मार देता हूँ। फिर मैंने एक ज़ोर का झटका लगाया, तो वो सेक्सी आवाज़ें निकाल कर चुदने लगी। अब 20 मिनट की चुदाई के बाद मेरा लंड झड़ने वाला था और उसकी चूत भी दो बार अपना पानी छोड़ चुकी थी।

फिर मैंने उसे ज़ोर से पकड़ा और ज़ोर ज़ोर से उसकी चुदाई शुरू की। अब शालिनी कह रही थी कि प्लीज ज़ोर से चोदो, मेरी चूत मारो… आअहह फक मी.. लव मी… आअहह… ओह माय गॉड!! आई एम इन हेवेन प्लीज!! आहह मारो, ज़ोर से।

इतनी देर में मैं झड़ गया और सारा माल उसकी चुत के अन्दर ही निकाल दिया। थोड़ी देर के बाद उसने भी अपना पानी छोड़ दिया और हम दोनों शांत हो गये। फिर वो खड़ी होकर मेरे सीने से लिपट गयी और बोली कि प्लीज किसी से मत कहना।

अब मैं जब भी फ्री रहूंगी तो तुझसे चुदवा लूँगी। फिर हमें जब कभी भी कोई मौका मिला तो हमने खूब चुदाई की और खूब इन्जॉय किया।