बारिश वाली रात में किया अनजान आदमी से सेक्स

हेलो दोस्तों मेरा नाम रजिया है और मेरा फिगर बहुत ही मस्त है। मेरा फिगर किस भी आदमी के लंड को खड़ा करवा सकता है। मेरे बूब्स तो बहुत ही ज्यादा मस्त है और यह टाइट कपड़ों में तो यह और भी कमाल के लगते हैं।

बात लगभग 2 हफ्ते पुरानी है। मैं किसी काम से नासिक जा रही थी। क्योंकि यह एमरजैंसी का काम था इसलिए मुझे घर से रात 10:00 बजे निकलना पड़ा। उस दिन बहुत बारिश हो रही थी। रास्ते में मेरी गाड़ी खराब हो गई।

मैं बाहर निकल कर इधर-उधर देखने लगी। पास में ही मुझे एक घर दिखाई दिया। मैं मदद के लिए वहां चली गई। बारिश में मैं पूरी तरह भीग चुकी थी और मेरे कपड़े मेरे बदन से पूरी तरह चिपक चुके थे।

उस घर का दरवाजा खटखटाया। अंदर से एक नौजवान लड़का बाहर आया और उसने पूछा कि आप कौन हो। फिर मैंने उसे बताया कि मेरी गाड़ी खराब हो गई है और बारिश भी बहुत हो रही है क्या मैं आज रात के लिए यहां रुक सकती हूं। उसने कहा कि मेरे घर में तो सिर्फ एक ही बेड है आप कहीं और देख सकती हैं।

उसको देखकर मेरे मन में चुदाई की इच्छा जाग चुकी थी इसलिए मैंने कह दिया कि कोई बात नहीं, यह भी चलेगा। मुझे अंदर बुलाया और अब तो तौलिया देते हुए कहा कि आप इससे शरीर पोंछ लें और अपनी एक टी-शर्ट और पजामा देते हुए कहा कि कपड़े बदल लें।

मैं बाथरूम में गई और कपड़े बदल कर बाहर आ गई। इतनी देर में उसने चाय बना लिया और मुझे चाय पिलाई। चाय पी कर उससे बोला बेड पर सो जाइए मैं नीचे सो जाऊंगा। मैंने कहा आप तकलीफ क्यों करते हैं आप भी ऊपर ही सो जाइए मुझे कोई दिक्कत नहीं।

इतना सुनते ही उससे वह मेरे साथ आकर सो गया। मुझे नींद नहीं आ रही थी और मैं आपके लंड की तरफ लगातार देखे जा रही थी। तभी मैंने अपना पैर उसके पेट पर रख दिया और सोने का नाटक किया। लेकिन उसने मेरा प्यार उठाकर नीचे रख दिया और मेरी तरफ घूम कर सो गया। अब हम दोनों की सांसें एक दूसरे से टकरा रही थी।

मैं बहुत गर्म हो गई थी और मेरी सांसे भी गरम हो चुकी थी। तभी मैंने अपना हाथ उसके लन्ड पर रख दिया तो मैंने महसूस किया कि उसका लन्ड पूरी तरह से खड़ा हो चुका था। मैंने अपनी आंखें खोली तो वह मेरी तरफ ही देख रहा था। उसने भी अपने हाथ मेरे बूब्स पर रख दिए और उन्हें धीरे-धीरे दबाने लगा।

उसकी कामुकता भरी आंखें देख कर मुझे अब इस बात में कोई संदेह नहीं रहा की वह भी मुझे चोदना चाहता है और चाहेगा भी क्यों नहीं मैं चीज ही ऐसी थी। अब वो उठा और उसने अपनी टीशर्ट उतार दी और मेरी टीशर्ट भी उतारने लगा।

अब वह ब्रा के ऊपर से ही मेरे बूब्स को मुंह में लेकर उन्हें हल्के हल्के से काटने लगा। फिर क्या था उसने मेरे पजामे के अंदर अपना हाथ घुस आया और मेरी चुत में उंगली करने लगा। मेरी चुत में जैसे ही उंगली घुसी तो मेरी सिसकियां निकल गई।

मैंने भी उसका लन्ड पकड़ लिया और उसे हिलाने लगी। फिर क्या था अब उसने मेरा पजामा भी उतार दिया और पैंटी भी उतार कर फेंक दी। मेरी चिकनी चुत अब उसके सामने थी। मेरी गोरी और लाल चुत को देख कर उसके मुंह में पानी आ रहा था।

मेरी चुत को चाटने लगा और बीच-बीच में मेरे बूब्स को भी अपने हाथों से दबाने लगा। अब हम दोनों पूरे नंगे हो चुके थे जैसे ही उसने मेरी चुत चाटना बंद किया तो उसने अपने होठों को मेरे होठों पर रख दिया।

अब तो हम दोनों बेतहाशा कुत्ते की तरह एक दूसरे को चाट रहे थे। एक दूसरे की जीभ से जीभ को मिला रहे थे। थोड़ी देर किसिंग करने के बाद उसने अपना लन्ड मेरी चुत में घुसा दिया। मेरे मुंह से जोर से आह भरी आवाज निकली।

अब उसने मुझे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया और मैंने भी चुदाई के मजे लेना शुरू कर दिया। वो बीच बीच में मेरे गांड पर जोर जोर से थप्पड़ मारे जा रहा। उसके थप्पड़ मारते ही मुझे बहुत ही ज्यादा आनंद आता था।

मैं भी उसे बीच-बीच में डार्लिंग जोर से चोदो बहुत मजा आ रहा है कह के साथ देती रहती। अब वह बोला कि मैं नीचे लेटा हूं तुम ऊपर से खुद चूदो। मैंने ठीक है बोलकर उसे नीचे लिटा दिया और उसके लन्ड को धीरे से अपनी चुत में डाला और कुदने लगी।

अब तो चुदाई के बहुत ही मजे ले रहा था और मेरे अंदर भी बिजली सा करंट दौड़ने लगा था। अब वह उठ कर बैठ गया और हम दोनों बैठे-बैठे वाली पोजीशन में ही एक दूसरे से गले मिलकर मैं उसके लन्ड पर कूदने लगी।

अब हम दोनों झड़ने ही वाले थे और हमने चुदाई की स्पीड और ज्यादा तेज कर दी। हम दोनों एक साथ ही झड़ गया और उसने सारा वीर्य मेरी चुत के अंदर ही निकाल दिया। क्योंकि उसने कंडोम पहन रखा था इसलिए मैंने उसको मना भी नहीं किया।

वह नीचे लेट गया और मैं उसके ऊपर लेट गई हम थक चुके थे इसलिए 5 मिनट तक हम ऐसे ही लेटे रहें। थोड़ी देर बाद उसने एक सिगरेट जलाई और हम दोनों ने सिगरेट के तीन-चार कश मारे। अब हम दोनों ऐसे नंगे ही सोने लगे।

अपने पैर उसके शरीर पर रख दिए और हम दोनों एक दूसरे को गले लगाकर सटकर सोने लगे।हम दोनों ने फिर से एक दूसरे को किस करना शुरू कर दिया और वह मेरे बीच में बूब्स भी दबा रहा था और कभी-कभी चुत में उंगली भी कर रहा था।

अब हम दोनों का एक बार फिर से सेक्स करने का मन बन गया। इस बार उसने अपना लन्ड मेरे मुंह में डाल दिया और मैं भी उसे पूरा अंदर तक लेकर चूसने लगी। उसका लन्ड पूरी तरह से खड़ा करने के बाद उसने मुझे डॉगी स्टाइल में चोदना शुरू कर दिया।

इस तरह हमने वो रात चुदाई करते हुए बिता दी। और सुबह उसने मेरा नंबर लिया और मकैनिक को बुलाकर मेरी गाड़ी ठीक करवाई और मैं चली गई। इसके बाद हम दोनों काफी बार मिले और हम दोनों की बहुत अच्छी दोस्ती हो गई है।